आईआईटी मुंबई में आयोजित होगा आपदा प्रबंधन सम्मेलन


SHARE

अगले साल 29 जनवरी से 1 फरवरी के बीच आपदा प्रबंधन पर चर्चा और अनुसंधान के लिए होने वाला सम्मेलन का आयोजन आईआईटी मुंबई में किया जाएगा। यह सम्मेलन ‘फ्यूचर वी वांट-ब्रिजिंग गैप बिटवीन प्रामिसेस एंड एक्शन’ की संकल्पना पर आधारित होगा। महाराष्ट्र सरकार कार्यक्रम की मुख्य संयोजक है। इसमें सौ से ज्यादा देशों के 15 सौ प्रतिनिधियों के भाग लेने की उम्मीद है।

सम्मेलन के लिए गठित संचालन समिति की बुधवार को मंत्रालय में पहली बैठक हुई जिसकी अध्यक्षता राहत व पुनर्वसन मंत्री चंद्रकांत पाटील ने की। इस दौरान मुख्य सचिव दिनेशकुमार जैन, राहत व पुनर्वसन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव मेधा गाडगील, आपदा प्रबंधन विभाग के संचालक दौलत देसाई और आपदा प्रबंधन पहल व अभिसरण सोसायटी के सलाहकार और पूर्व केंद्रीय सचिव पीजी धार चक्रवर्ती समेत कई अधिकारी उपस्थित थे।

100 से ज्यादा देशों ले सकते है हिस्सा

महाराष्ट्र सरकार के साथ-साथ आईआईटी मुंबई, डीएमआयसीएस, टाटा सामाजिक संस्था इस सम्मेलन की सह आयोजक है। इस वैश्विक सम्मेलन में देशभर के विभिन्न राज्य सरकारों, स्थानीय स्वराज संस्थाओं के प्रतिनिधि, विश्व स्वास्थ्य संगठन (यूनिसेफ), संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रतिनिधि, आपदा प्रबंधन से जुड़ी विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाएं, विश्वविद्यालयों शैक्षणिक संस्थाओं के प्रतिनिधि, शोधकर्ता और विशेषज्ञ मौजूद रहेंगे।

यह भी पढ़े- अब नेट की परीक्षा होगी ऑनलाइन

यह भी पढ़े- राज्यभर में कॉलेज शिक्षको का 11 सितंबर को कामबंद आंदोलन की चेतावनी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें