अगर वाहन में नहीं लगाया है FASTag, तो चुकाना पड़ेगा भारी जुर्माना

फास्टैग वाशी, एरोली, मुलुंड, एलबीएस मार्ग और दहिसर के अलावा मुंबई बांद्रा-वर्ली सी लिंक मार्ग पर फास्टैग सेवा शुरू है।

अगर वाहन में नहीं लगाया है FASTag, तो चुकाना पड़ेगा भारी जुर्माना
SHARES

 

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने वाहनों में FASTag लगाना अनिवार्य किया है। लेकिन फिर भी, कई वाहन चालक इस नियम  की अनदेखी कर रह हैं ,परिणामस्वरूप में जुर्माना भी भर रहे हैं। NHAI ने बताया कि बिना FASTag लगाये 18 वाहनों से जुर्माने के रूप में कुल 20 करोड़ रूपये वसूल किये गये हैं. ये वाहन बिना FASTag के टोल नाकों से FASTag वाली लेन से गुजर रहे थे।


अगर फास्टैग नहीं है तो...? 

पिछले साल दिसंबर में सड़क परिवहन मंत्रालय ने डिजिटल टोल वसूली के लिए एक फास्टैग (FASTag) लॉन्च किया था। मंत्रालय ने बताया कि अगर कोई वाहन फास्टैग के बिना टोल नाके पर आता है, तो उसे दोगुना शुल्क देना होगा। अधिकारियों के अनुसार, फास्टैग के बिना लेन में वाहन घुसाने से दो बार जुर्माना वसूला जाता है। अब तक देश भर में लगभग 18 लाख वाहनों ने बिना टैग के फास्टैग लेन में प्रवेश करने की कोशिश की है। उनसे जुर्माने के रूप में 20 करोड़  रुपये की राशि वसूल की गई है। अब तक देश भर में 1.55 करोड़ से अधिक फास्टैग जारी किए गए हैं।


कैसे काम करता है फास्टैग ?

फास्टैग, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (NHAI) की एक पहल है। यह डिजिटल रूप में टोल वसूलने की एक तकनीक है। रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टैग, जो वाहन के फ्रंट ग्लास पर लगा होता है, ताकि टोल से गुजरते समय टोल में लगे सेंसर फास्टैग को स्कैन करेगा और ऑटोमैटिक रूप से आपके बैंक खाते से टोल काट लिया जाएगा। लोगो को इस पर प्रोतसाहित करने के लिए 1 मार्च 2020 तक फास्टैग का उपयोग करने वाले वाहन चालकों को 2.5 प्रतिशत का कैशबैक देने की योजना भी जारी की है, इसका पैसा सीधे वाहन चालक के बैंक खाते में जमा हो जाएगा।

कहां से मिलेगा फास्टैग ? 

नई कार खरीदते समय आप डीलर से फास्टैग प्राप्त कर सकते हैं। पुराने वाहनों के लिए इसे नेशनल हाईवे के प्वाइंट ऑफ सेल (POS) पर खरीदा जा सकता है। आप निजी बैंकों से फास्टैग भी खरीद सकते हैं। आप पेटीएम से फास्टैग भी खरीद सकते हैं। यदि आप बिक्री केंद्र से फास्टैग खरीद रहे हैं, तो वाहन का आरसी, मालिक का फोटो और केवाईसी अन्य दस्तावेज उपलब्ध कराना होगा। साथ ही आप ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, वोटर आईडी या आधार कार्ड भी दिखा सकते हैं।


कहां अनिवार्य हैं फास्टैग?

फास्टैग वाशी, एरोली, मुलुंड, एलबीएस मार्ग और दहिसर के अलावा मुंबई बांद्रा-वर्ली सी लिंक मार्ग पर फास्टैग सेवा शुरू है।  

पढ़ें: वाहन चालकों को राहत, FASTag की अवधि 30 दिनों के लिए बढ़ी

संबंधित विषय