Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
59,54,508
Recovered:
56,99,983
Deaths:
1,16,674
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
14,860
684
Maharashtra
1,34,747
9,798

बेस्ट हड़ताल की जिम्मेदार शिवसेना - राव

बेस्ट कृति समिति के शशांक राव का कहना है कि जब तक मामले का हल नहीं निकलेगा हम हड़ताल वापस नहीं लेंगे। सीधे-सीधे शिवसेना पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि इस हड़ताल की जिम्मेदार शिवसेना है।

बेस्ट हड़ताल की जिम्मेदार शिवसेना - राव
SHARES

गुरूवार को बेस्ट हड़ताल का तीसरा दिन है। बुधवार को बेस्ट प्रशासन की तरफ से कर्मचारियों पर मेस्मा लगाये जाने और बेस्ट द्वारा घरों को खाली करने के लिए नोटिस दिए जाने के बाद कर्मचारी अब और भी आक्रमक हो गये हैं। कर्मचारी अब अपने परिवार के साथ रास्तों पर उतर आये हैं जबकि दूसरी तरफ अब इस हड़ताल को लेकर राजनीति भी शुरू हो गयी है। आपको बता दें कि इस हड़ताल से रोजाना 25 लाख यात्री हलकान हो रहे हैं, इनमे सबसे अधिक परेशानी उन छात्रों को हो रही है जिनका एग्जाम चल रहा है।  

ठाकरे बंधु भी हड़ताल से जुड़े 
अब इस हड़ताल में ठाकरे बंधु भी आ गये हैं, जहां सैकड़ों की संख्या में कर्मचारियों ने राज ठाकरे के निवास स्थान कृष्णकुञ्ज में जाकर राज ठाकरे से मुलाकात की तो वहीँ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी इस हड़ताल को लेकर मध्यस्था कर सकते हैं। हालांकि राज ठाकरे ने कर्मचारियों से मुलाकात कर इस समाधान तो नहीं बताया लेकिन इतना कर्मचारियों को एकजुट रहने के लिए अवश्य कहा। अब सभी लोग इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि दोपहर में बेस्ट कर्मचारियों की बैठक उद्धव ठाकरे के साथ होनी है, तो क्या मामला सुलझ पायेगा? 

'हड़ताल की जिम्मेदार शिवसेना'
तो वहीँ बेस्ट कृति समिति के शशांक राव का कहना है कि जब तक मामले का हल नहीं निकलेगा हम हड़ताल वापस नहीं लेंगे। सीधे-सीधे शिवसेना पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि इस हड़ताल की जिम्मेदार शिवसेना है। यही नहीं उन्होंने आगे कहा कि अब इस मुद्दे पर किसी भी राजनीतिक दलों के नेता के साथ बातचीत नहीं होगी। जबकि खुद उद्धव ठाकरे मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्था कर सकते हैं।

कब खत्म होगी हड़ताल 
आपको बता दें कि अपनी विभिन्न मागों को लेकर बेस्ट के 30 हजार कर्मचारी मंगलवार से ही हड़ताल पर हैं। अब यह हड़ताल सुलझने की जगह कफी उलझ गया है। इस हड़ताल के खिलाफ बेस्ट प्रशासन ने भी सख्त रवैया अपनाया है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें