Advertisement

लॉक डाउन के कारण मुंबई लोकल को 328 करोड़ का नुकसान


लॉक डाउन के कारण मुंबई लोकल को 328 करोड़ का नुकसान
SHARES
Advertisement

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रचलन के कारण नगरपालिका ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।  सबसे महत्वपूर्ण बात, मुंबई की लाइफलाइन लोकल को बंद करने का निर्णय लिया गया।  मुंबई की लोकल ट्रेन सेवा को डर के कारण बंद कर दिया गया था ताकि कोरोना आगे फैल सके।  हालांकि, इस सेवा के बंद होने के कारण, मुंबई लोकल को लॉकडाउन के दौरान 328 करोड़ रुपये का वित्तीय नुकसान उठाना पड़ा

रेलवे अधिकारियों ने कहा कि लॉकिंग के दौरान मध्य और हार्बर इंजनों के बंद होने के कारण कुल 163.82 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ, जबकि पश्चिम रेलवे में चलने वाली ट्रेनों को बंद करने के कारण 164.23 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। मध्य और पश्चिम रेलवे पर नव-वातानुकूलित लोमोटिव यार्ड में भी हैं।  भले ही लोकल ट्रेन न चल रही हो लेकिन यार्ड में उनकी देख रेख में भी अच्छी खासी रकम खर्च होती है।

जैसा कि राज्य में लॉकडाउन की छूट की प्रक्रिया शुरू हो गई है, कई क्षेत्रों को इस सवाल का सामना करना पड़ रहा है कि लॉकिंग अवधि के दौरान नुकसान के लिए कैसे तैयार किया जाए।  लॉक के कारण मध्य, पश्चिम और हार्बर स्थान भी पूरी तरह से बंद हैं।  मुंबई उपनगरीय रेलवे पर 300 से अधिक ट्रेनें हैं।  इसमें 12 और 15 कोच वाली ट्रेनें शामिल हैं

फिलहाल इस बात का अनुमान नही है की लोकल रेल कब शुरू होगी इसलिए नुकसान और भी ज्यादा बढ़ने वाले हैं।  यात्री किराए से राजस्व माल ढुलाई से कम है।  स्थानीय शुरू होने के बाद क्षतिपूर्ति के लिए विभिन्न योजनाओं को लागू किया जाएगा।  यह गैर-निष्पक्ष राजस्व (एनएफआर) पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करेगा।  यह समझा जाता है कि इसमें स्थानीय घोषणाओं से लेकर स्टेशन विज्ञापनों तक सब कुछ शामिल होगा।



संबंधित विषय
Advertisement