Advertisement

दुबई में एयर इंडिया की फ्लाइट को 2 अक्टूबर तक नो एंट्री

दुबई (dubai) अथॉरिटी की तरफ से एयर इंडिया एक्सप्रेस पर 2 बार नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है।

दुबई में एयर इंडिया की फ्लाइट को 2 अक्टूबर तक नो एंट्री
SHARES

दुबई की सिविल एविएशन अथॉरिटी ने एयर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) की उड़ानों पर 2 अक्टूबर तक रोक लगा दी है। दुबई (dubai) अथॉरिटी की तरफ से एयर इंडिया एक्सप्रेस पर 2 बार नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। जिसके बाद दुबई की सिविल एविएशन अथॉरिटी की तरफ से यह निर्णय लिया गया है।

बताया जाता है कि, एयर इंडिया (air india) की फ्लाइट से जो यात्री दुबई गए हैं उनमें कुछ कोरोना पॉजिटिव (Covid-19 positive) पाए गए।

यूएई (UAE) सरकार के नियमों के अनुसार, भारत से यात्रा करने वाले प्रत्येक यात्री को यात्रा से 96 घंटे पहले कोविड-19 की आरटी-पीसीआर (RT-PCR Testing)की टेस्टिंग कराना होगा और ऑरिजिनल निगेटिव रिपोर्ट लाना होगा।

दुबई की सिविल एविएशन अथॉरिटी ने बताया कि, कोविड-19 पॉजिटिव सर्टिफिकेट होने के बावजूद एक यात्री ने 4 सितम्बर को एयर इंडिया एक्सप्रेस से जयपुर-दुबई की यात्रा की।

एविएशन के मुताबिक, एयर इंडिया की तरफ से इसी तरह की एक और घटना पहले भी हो चुकी थी, जब दुबई पहुंची एयरलाइन्स में एक कोविड-19 पॉजिटिव यात्री सवार था। इसी वजह से दुबई अथॉरिटी ने 18 सितम्बर से लेकर 2 अक्टूबर तक एयर इंडिया एक्सप्रेस की सभी उड़ानों पर रोक लगा दी है।

इस बारे में एयर इंडिया एक्सप्रेस ने कहा कि, वह यात्रियों की कठिनाई को कम करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है और शुक्रवार को प्रस्तावित चार उड़ानें संचालित करने की योजना बना रही है, ये उड़ानें दुबई की बजाय शारजाह के लिए जाएंगी।

  • सरकारी विमान कंपनी एयर इंडिया ने पिछले महीने से यूएई जाने वाले सभी यात्रियों के लिए कोरोना की परीक्षण रिपोर्ट अनिवार्य कर दी है।
  • विमान में सवार होने से पहले 12 वर्ष से अधिक आयु के यात्रियों को अपनी निगेटिव कोरोना रिपोर्ट दिखानी होगी।
  • दिशानिर्देशों के अनुसार, सभी यात्रियों को सरकार द्वारा अनुमोदित परीक्षण केंद्र से नकारात्मक रिपोर्ट प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • कोविड 19 पीसीआर परीक्षण से गुजरना भी सभी के लिए अनिवार्य है। लेकिन यह उड़ान से 96 घंटे पहले भी नहीं होना चाहिए।

एयरलाइंस के लिए बनाए गए नियमों को लागू नहीं करने के कारण यह कार्रवाई की गई है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय