बेस्ट कर्मचारियों की सैलरी काटने से बेस्ट समिति के सदस्य भी नाराज

सदस्यों के नाराजगी जाहीर होने के बाद बेस्ट समिति के अध्यक्ष ने कहा की वह जल्द ही इस मामले का हल निकालने की कोशिश करेंगे और इसके साथ ही वह इस बात की भी कोशिश करेंगे की कर्मचारियों का पगार ना काटा जाए।

SHARE

बेस्ट के कर्मचारियों ने सैलरी बढ़ाने के साथ साथ अपनी की मांगो को लेकर 9 दिन तक हड़ताल की थी, जिसके बाद कोर्ट ने बेस्ट को कर्मचारियों की सैलरी बढ़ाने का आदेश दिया। बेस्ट प्रशासन ने जहां एक ओर कर्मचारियों की सैलरी तो बढ़ाई तो लेकिन वहीं दूसरी हड़ताल के 9 दिनों की सैलरी भी काट ली। 9 दिनों की पगार काटे जाने के कारण बेस्ट कर्मचारियों में काफी नाराजगी है। बेस्ट कर्मचारियों के साथ साथ अब बेस्ट समिति के सदस्यों ने भी इसपर नाराजगी जाहीर की है।

बेस्ट कर्मचारियों की सैलरी काटे जाने को लेकर बेस्ट समिति के सदस्यों ने बैठक में कड़ी नाराजगी जाहीर की है। सदस्यों के नाराजगी जाहीर होने के बाद बेस्ट समिति के अध्यक्ष ने कहा की वह जल्द ही इस मामले का हल निकालने की कोशिश करेंगे और इसके साथ ही वह इस बात की भी कोशिश करेंगे की कर्मचारियों का पगार ना काटा जाए।

बेस्ट प्रशासन का कहना है की बेस्ट कर्मचारियों की हड़ताल को औद्योगिक न्यायालय ने गैरकानूनी बताकर उन्हे हड़ताल पर जाने से मना किया था। जिसके बाद औद्योगिक कोर्ट के आदेश के आधार पर कर्मचारियों पर मेस्मा लगाया गया था। लेकिन औद्योगिक कोर्ट ने 9 दिन की पगार काटने पर कोई भी फैसला नहीं किया। जिसके बाद ये मामला बॉम्बे हाईकोर्ट में गया, हाईकोर्ट के फैसले के बाद ही बेस्ट इस मामले में अपना पक्ष स्पष्ठ करेगा।


यह भी पढ़े714 स्कूलों को इंटरनेट सुविधा देगी बीएमसी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें