PMC घोटाला : बैंक के तीन निदेशकों को किया गया गिरफ्तार

तीनों की गिरफ्तारी के बाद अब इस मामले में कुल 12 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

SHARE

 

पंजाब एंड महाराष्ट्र सहकारी बैंक (PMC) घोटाले मामले में तीन और लोगों की गिरफ्तार हुई है। जिनकी गिरफ्तारी हुई है उनमें सभी निदेशक हैं, इनके नाम जगदीश मुखे, मुक्ति बवीसी और तृप्ती बैने है। तीनों की गिरफ्तारी के बाद अब इस मामले में कुल 12 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

बताया जाता है कि गिरफ्तार इन तीनों निदेशकों को हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) और उसकी समूह की कंपनियों को प्रदान की गई ऋण सुविधाओं के संबंध में व्यापक पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया है। 

पढ़ें: PMC Crisis: तीन चौथाई यानी 78 फीसदी से अधिक खाताधारक अब निकाल सकेंगे अपनी पूरी जमाराशि

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मुखे साल 2005 में ऑडिट कमेटी के सदस्य थे, और बवीसी 2011 से इसके ऋण और अग्रिम समिति के निदेशक और सदस्य थे। जबकि तृप्ती बैने 2010 से 2015 के बीच की अवधि और 2015 से ऋण और अग्रिम समिति के लिए ऋण वसूली समिति की सदस्य थीं। अब इन तीनों को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

इस मामले में इसके पहले पूर्व भाजपा विधायक सरदार तारासिंह के बेटे रजनीत सिंह के साथ-साथ HDIL कंपनी के कार्यकारी निदेशक राकेश वाधवान और प्रबंध निदेशक सारंग वाधवान और पीएमसी के निलंबित प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस, अध्यक्ष वरियाम सिंह, करतार सिंह, एस. सुरजीत सिंहअरोड़ा की भी गिरफ्तारी हो चुकी है। HDIL और PMC बैंक अधिकारियों के साथ तीन ऑडिटर भी पुलिस की गिरफ्त में हैं।

पढ़ें: PMC बैंक मामला- रजनीत सिंह को 25 नवंबर तक पुलिस हिरासत

 
संबंधित विषय
ताजा ख़बरें