Advertisement

'2 फीसदी जनसंख्या मास्क नहीं लगा कर 98 फीसदी लोगों की जान खतरे में डाल रहे हैं'

एक समाचार चैनल से बात करते हुए मेयर किशोरी पेडणेकर (kishori pednekar) ने लापरवाह नागरिकों के रवैये पर नाराजगी प्रकट की।

'2 फीसदी जनसंख्या मास्क नहीं लगा कर 98 फीसदी लोगों की जान खतरे में डाल रहे हैं'
SHARES

कोरोना (Coronavirus) संकट के समय में, मुंबईकर नियमों का पालन कर रहे हैं और सावधानी भी बरत रहे हैं। लेकिन केवल 2% लापरवाह नागरिक बिना मास्क (mask) के भी घूम रहे हैं। इसके कारण वे अनजाने में 98% मुंबईकरों के जीवन को खतरे में डाल रहे हैं। यह बात मुंबई महानगर पालिका यानी BMC की मेयर किशोरी पेडणेकर (mumbai mayor kishori pednekar) ने कहा। कोरोना सुरक्षा के संदर्भ में नियमों का पालन नहीं करने वाले लोगों पर किशोरी पेडणेकर नाराज थीं।

एक समाचार चैनल से बात करते हुए मेयर किशोरी पेडणेकर (kishori pednekar) ने लापरवाह नागरिकों के रवैये पर नाराजगी प्रकट की। उन्होंने कहा कि जहां मुंबई सहित महाराष्ट्र में फिर से कोरोना के रोगियों की संख्या बढ़ रही है, साथ ही प्रशासन द्वारा विभिन्न उपाय भी किए जा रहे हैं। लेकिन व्यक्तिगत स्तर पर सभी को सावधान रहना जरूरी है।

उन्होंने कहा, प्रत्येक मुंबईकर को घर से बाहर जाते समय सार्वजनिक स्थानों पर मास्क (wearing mask in public place) पहनना अनिवार्य किया गया है।  फिर भी, कुछ लोग मास्क बिना मास्क पहने हुए दिखाई देते हैं। 

हाकई हालांकि ऐसे लोगों की संख्या 2 फीसदी ही है, लेकिन ऐसे लोग 98 फीसदी लोगों की जान खतरे में डाल रहे हैं।

2 फीसदी लोग 98 फीसदी लोगों को मारने का काम कर रहे हैं। उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं है कि यह अति आत्मविश्वास दूसरों के जीवन को प्रभावित कर रहा है।  निर्दयी लोग यह समझने के लिए तैयार नहीं हैं कि कोरोना लोगों के घरों में मौत का कारण बनता है।

कुछ लोग अपने गले में सोने की चैन पहनते हैं और काला चश्मा पहनते हैं, लेकिन वे फेस मास्क नहीं पहनते हैं। मास्क के बारे में पूछे जाने पर, वे कहते हैं कि उनके पास पैसा नहीं है। यह मानसिकता पूरी तरह से गलत है। मेयर किशोरी पेडणेकर ने कहा कि ऐसे लोग अपराधी हैं जो मास्क नहीं पहनते हैं।

किशोरी पेडनेकर को चेतावनी देते हुए कहा, अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए राज्य को चरणों में अनलॉक किया जा रहा है। मुंबईकरों को कई रियायतें दी जा रही हैं। ऐसी स्थिति में मुंबईकरों को भी अधिक सावधान रहना चाहिए और सार्वजनिक स्थानों पर पर्याप्त ध्यान रखना चाहिए। यदि लोग मास्क नहीं पहनते हैं, तो कोरोना को हराने में लंबा समय लगेगा।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय