खस्ताहाल हो चुके कर्नाक पुल को गिराया जाएगा

कर्नाक बंदर पुल लगभग 150 साल पुराना है। खतरे को देखते हुए इस पुल पर से केवल हल्के वाहनों को ही आने जाने की अनुमति दी गई है। इसके बाद भी बीएमसी ने मध्य रेलवे को लिखे गये पत्र में इस पुल पर से आवाजाही बंद करने और इसे गिराने की बात कही है।

SHARE

बीते रविवार को मध्य रेलवे ने 102 साल पुराने हो चुके कल्याण के पत्री पुल को गिरा दिया गया। अब सीएसएमटी और मस्जिद रेलवे स्टेशन के बीच स्थित कर्नाक बंदर पुल को गिराने का निर्णय लिया गया है। इस बाबत बीएमसी ने मध्य रेलवे को एक पत्र भी लिखा है जिसमें पुल के पुराने और खतरनाक होने की बात कही गई है। इसे गिराने के लिए मंगलवार को मध्य रेलवे के अधिकारियों सहित मुंबई IIT और बीएमसी के अधिकारियों ने निरीक्षण भी किया।

आपको बता दें कि कर्नाक बंदर पुल लगभग 150 साल पुराना है। खतरे को देखते हुए इस पुल पर से केवल हल्के वाहनों को ही आने जाने की अनुमति दी गई है। इसके बाद भी बीएमसी ने मध्य रेलवे को लिखे गये पत्र में इस पुल पर से आवाजाही बंद करने और इसे गिराने की बात कही है। यही नहीं इस पुल के गिरने के बाद यहां अन्य कोई और पुल बनाया जाएगा या नहीं इस पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है जिससे स्थानीय निवासी काफी चिंतित हैं।

इसके पहले भी 135 साल पुराने हैंकॉक ब्रिज को ध्वस्त किया गया था। हालांकि, हैंकॉक को गिराने के बाद क्षेत्र के निवासियों की परेशानी बढ़ गयी थी। इसलिए अब यह मांग की जा रही है कि कर्नाक पुल को गिराने से पहले स्थानीय लोगों के लिए वैकल्पिक मार्ग बनाया जाना चाहिए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें