गोराई में मैंग्रोज के कत्ल की जांच करेंगे जिलाधिकारी

 Gorai
गोराई में मैंग्रोज के कत्ल की जांच करेंगे जिलाधिकारी

गोराई-उत्तन इलाके में पैन इंडिया पर्यटन लि. (एस्सेल वर्ल्ड) द्वारा 88 एकड़ जमीन पर मैंग्रोवों का वध करने के मामले में न्यू रोड रेजीडेंसी फोरम द्वारा दायर शिकायत को गंभीरता से लेते हुए जिला अधिकारी गुरुवार को क्षेत्र का निरीक्षण करेंगे। आरटीआई कार्यकर्ता और पर्यावरण प्रेमी हरीश पांडे ने मैंग्रोज के अवैध कत्ल का पर्दाफाश किया था। इस मामले में पांडे ने संबंधित यंत्रणा से शिकायत की थी। उन्होंने इसमें बड़े घोटाले का आरोप लगाया है। गोराई-उत्तन-मनोरी इन जगहों की गिनती केंद्रीय पर्यावरण और वन विभाग के नेशनल मैंग्रोज साईट में की जाती है। यह इलाके सीआरजेड-3 में आते हैं। ऐसा होने के बावजूद गोराई खाड़ी में करीब 88 एकड मैंग्रोज को अवैध रूप से काट कर पैन इंडिया पर्यटन लि. द्वारा पंच सितारा रिसॉर्ट तैयार किए जाने का मामला सामने आया है।


गोराई खाडी से लगे 15 एकड की जगह पर मैंग्रोज का कत्ल करने का आरोप एस्सेल ग्रुप पर लगाते हुए हरीश पांडे ने 2013 में उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की है। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायालय ने मैंग्रोज का कत्ल रोक दिया था। लेकिन कई दिनों से गोराई खाडी में मैंग्रोज का कत्ल शुरू होने की जानकारी मिलने पर पांडे ने जांच की तो पहले से 15 एकड़ की जगह के साथ 88 एकड जगह पर मैंग्रोज के कत्ल की जानकारी सामने आई।


उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार 2015 में 15 एकड मैंग्रोज के कत्ल करने विरोध में संबंधित लोगों पर मामला दर्ज हुआ था, लेकिन उस मामले में किसी तरह की कार्रवाई नहीं हुई, जिसके बाद इनके हौसले बढ़ते गए और धीरे-धीरे 88 एकड जगह से मैंग्रोज क साफ कर डाला। जिसकी जानकारी पांडे ने दी थी।

गोराई में 88 एकड़ मैंग्रोज का कत्ल
पांडे ने इस संबंध में एक शिकायत दर्ज कराई है और संबंधित कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। बीएमसी की एक समिति मैंग्रोज के संबंध में एक रिपोर्ट तैयार की है और कथित तौर पर मैन्ग्रोव के वध करने के लिए कंपनी को दोषी ठहराया है। रिपोर्ट की कथित तौर पर उपेक्षा की गई है जिसमें पांडे ने जिला कलेक्टर को अपनी शिकायत का पालन करने के लिए प्रेरित किया। कलेक्टर द्वारा जारी एक पत्र में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि संबंधित कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, अगर उसने मैंग्रॉवों की कत्तल करके कानून का उल्लंघन किया है।

Loading Comments