• भायखला जेल फ़ूड पॉइजनिंग: अब सभी की स्थिति स्थिर
SHARE

भायखला जेल में बंद 81 महिला कैदी सहित 1 चार महीने के बच्चे को फूड पॉइजनिंग होने के बाद उन्हें जे.जे अस्पताल दाखिल कराया गया जहां अब सभी की तबियत स्थिर है। जे.जे अस्पताल के डीन डॉ. मुकुंद तायडे ने बताया कि इन सभी को शुक्रवार की सुबह जेजे अस्पताल में दाखिल कराया गया था, अब सब की तबियत ठीक है।

गर्भवती महिला और चार साल का बच्चा भी बीमार  
डॉ. मुकुंद तायडे ने कहा, सुबह 9:40 के दौरान सभी को यहाँ लाया गया था। कुछ महिलाओं को न्यूरोलॉजी तो कुछ को डिजास्टर विभाग में दाखिल दाखिल किया गया है। इन महिलाओं में एक गर्भवती महिला के साथ साथ एक चार महीने का बच्चा भी शामिल है। गर्भवती महिला को महिला रोग विशेषज्ञ तो बच्चे को बाल रोग विशेषज्ञ विभाग में भर्ती किया गया है।

नाश्ता खाने के बाद हुए बीमार 
बताया जाता है कि इन महिला कैदियों को शुक्रवार की सुबह लगभग 8 बजे नाश्ता दिया गया था। नाश्ता खाने के बाद इन्हे अचानक से उल्टी और दस्त होने लगे,साथ ही पेट में भी मरोड़ उठने लगी। इसके बाद इन्हे जे.जे अस्पताल ले जाया गया।

जांच के बाद मामला होगा साफ 
इस मामले में जेजे अस्पताल के डॉक्टर विकार शेख ने कहा कि सभी कैदियों को एक समान ही खाना दिया जाता है, जसमें दाल,चावल, फली, भाजी सहित अन्य पदार्थों का समावेश होता है। अब कमी इन अन्न पदार्थों में थी या पानी में यह जांच के बाद ही पता चलेगा। 

आपको बता दें कि डॉक्टर विकार शेख वही डॉक्टर हैं जिन्होंने शीन बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी का भी इलाज फ़ूड पॉइजनिंग होने के समय किया था। बीमार सभी महिला कैदियों की देखरेख डॉ. विद्या नागर के नेतृत्व में 35 डॉक्टर कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: भायखला जेल की 78 महिला कैदियों को फुड प्वॉइजनिंग की शिकायत!

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें