मजदूरों के लिए 42 कल्याण केन्द्र


SHARE

मजदूरों के कल्याण के लिए करोड़ रुपए बैंकों में जमा हैं। पर उनकी स्थिति दयनीय बनी हुई है।  उनके स्तर को उठाने के लिए कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। 5,074 करोड़ रुपए  जनता से एकत्र किया गया, पर इसका इनके लिए उपयोग नहीं किया जा रहा।

एकत्रित राशि भवन और अन्य निर्माण कार्यों के लिए होती है। 2007 में धनराशि 255 करोड़ जमा की गई जिसमें 94 लाख का ही उपयोग किया गया है।

अब समिति ने तय किया है कि 42 कल्याण केन्द्र स्थापित किए जाएंगे जो मजदूरों के उत्थान के लिए काम करेंगे। केंद्रों के निर्माण के लिए निविदा एक निजी कंपनी को दी जाएगी। श्रमिकों को आसानी से पंजीकरण दिया जाएगा केंद्र स्थापित करने का काम चलेगा।

वहां 40 लाख निर्माण मजदूर हैं। इनमें से केवल 5 लाख पंजीकृत हैं केवल 2 लाख पंजीकृत मजदूरों ने अपने अनुबंध का नवीकरण किया है।

निर्माणकार्य कल्याण बोर्ड के सचिव श्रीरंगम ने कहा है कि हम इस योजना के जरिए श्रमिकों को अधिकतम लाभ देने के लिए अपनी पूरी योजना बना रहे हैं। केंद्र द्वारा स्थापित होने के बाद अधिक संख्या में ठेकेदारों को पंजीकृत किया जाएगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें