कोरोना का असर - रिहायशी इमारतों में किसान सीधे बेच रहे सब्जी

विधायक योगेश सागर के कोशिश के बाद किसान अपनी सब्जी सीधे ग्राहकों तक बेच पा रहा है। सब्जी बेचने के दौरान जरूरी अंतर का भी ध्यान रखा जा रहा है और दामों में भी कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है

कोरोना का असर - रिहायशी इमारतों में किसान सीधे बेच रहे सब्जी
SHARES

राज्य के साथ-साथ पूरे देश में कोरोना वायरस से प्रभावित मरीजों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।  देश में कोरोनावायरस के मरीजों की संख्या पर काबू पाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किस दिनों का कर्फ्यू लगा दिया है यानी कि 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉक डाउन रहेगा। लिहाजा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी लोगों से अपील की है कि वह बेहद ही जरूरी होने पर घरों से बाहर निकले।अनावश्यक कार्यों के कारण घर से बाहर निकलने से बचें हालांकि लोग अपील के बाद भी अभी भी सड़कों पर निकल रहे हैं । विधायक योगेश सागर के कोशिश के बाद किसान अपनी सब्जी सीधे ग्राहकों तक बेच पा रहा है।


लॉक डाउन होने के कारण लोगों ने जरूरी सामानों का भंडारण भी शुरू कर दिया है हालांकि सरकार ने पहले ही कहा है कि राज्य व देश में जरूरी सामानों की किसी भी तरह से कमी नहीं है। लोगों को जरूरी सामान कराने में अब किसान भी आगे आ रहे हैं लोगों को सब्जियां खरीदने में किसी तरह की कोई दिक्कत ना हो लिहाजा अब किसान रिहायशी इमारतों में जाकर छोटी-छोटी मंडियां लगाकर वहां के लोगों को सब्जी बेच रहे हैं जिससे वह सड़कों पर निकलने से बचे और भीड़ इकट्ठा ना हो सके।


चारकोप इलाके में  किसानों ने रिहायशी इमारतों में जाकर छोटी-छोटी मंडिया बनाकर जरूरी अंतर रखकर वहां के रहवासियों में सब्जी बेच रहे हैं ।इससे एक फायदा तो यह हो रहा है कि रही वासियों को अपने ही निवास स्थान पर सब्जियां मिल जा रही है और दूसरा किसी भी तरह की भीड़ इकट्ठा नहीं हो रही है। सब्जी बेचने के दौरान सही अंतर रखा जा रहा है इसके साथ ही सब्जियों के दामों में भी किसी तरह की बढ़ोतरी नहीं की जा रही है।

संबंधित विषय