मुंबई के इतिहास में पहली बार, जुलाई में ही मुंबई का जलभंडार 85 प्रतिशत भरा

 Mumbai
मुंबई के इतिहास में पहली बार, जुलाई में ही मुंबई का जलभंडार 85 प्रतिशत भरा

मुंबई में पानी की आपूर्ति करने वाली सभी जलाशयों में अभी तक हुई बारिश के कारण सिर्फ जुलाई में ही 85 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है। दो महिनो की बारिश में पहली बार मुंबई के जलाशयो में 85 प्रतिशत पानी भर गया है। पिछले कई वर्षों के इतिहास में पहली बार जुलाई महीने के तीसरे सप्ताह में इतने उच्च अंक जल संचय में वृद्धि हुई है।

मुंबई में पानी की आपूर्ति करने वाला वैतरणा, मोडक सागर, तानसा, मध्य वैतरणा, भतसा, विहार और तुलसी से 3370 मिलियन लिटर पानी की आपूर्ति की जाती है। इन सभी जलाशयो में सालाना 14 लाख 47 हजार 263 मिलियन लीटर पानी की आवश्यकता होती है। इसमें कुल मिलाकर 12 लाख 32 हजार 678 मिलियन लीटर पानी अभी ही जमा हो गया है। पिछले पांच से सात वर्षों में यह सबसे अधिक पानी का भंडारण माना जाता है।

अब तक मोडकसागर, तानसा ये दो जलाशय पानी से लबालब भरे हुए है। और तुलसी और अप्पर वैतरणा भी लगभग भरनेवाले है। थोड़ी सी और भी बारिश में ये जलाशय पुरी तरह से भर जाएंगे।

२४ जुलाई तक पानी की आपूर्ति

2015 तक- 4 लाख 9 6 हजार 8 9 6 मिलियन लीटर (34.33 प्रतिशत)

2016 में - 8 लाख 66 हजार 448 मिलियन लीटर (5 9 .86 प्रतिशत)

2017- 12 लाख 32 हजार 678 मिलियन लीटर (85.15 प्रतिशत)

Loading Comments