मुंबई उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश चंद्रशेखर धर्माधिकारी का निधन

चंद्रशेखर की न्यायमूर्ती के पद पर नियुक्ति के बाद सेवानिवृत्ती तक लगभग 17 सालों तक न्याय दान का कार्य किया। इस दौरान वे कुछ दिनों के लिए प्रभारी मुख्य न्यायमूर्ती भी रहे। इस दौरान उन्होंने महिला, आदिवासी, छोटे बच्चों, मानसिक बीमारों के मूलभूत अधिकार के लिए अनेक महत्त्वपूर्ण निर्णय दिए।

SHARE

मुंबई उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश चंद्रशेखर धर्माधिकारी का गुरुवार की सुबह नागपुर में निधन  हो गया। 91 वर्षीय चंद्रशेखर धर्माधिकारी ने नागपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में अपने जीवन की आखिरी सांस ली। चंद्रशेखर का नागपुर के अंबझरी घाट पर अंतिम संस्कार होगा।

चंद्रशेखर शंकर धर्माधिकारी का जन्म 20 नवंबर 1927 को मध्य प्रदेश के रायपुर शहर में हुआ था। उन्होंने शुरुआती शिक्षा नागपुर के प्राथमिक महापालिका स्कूल से ग्रहण की थी। स्वातंत्रता संग्राम की लड़ाई में भी धर्माधिकारी शामिल रहे हैं। उत्कृष्ट काम के लिए 2003 में उन्हें 'पद्मभूषण' पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

चंद्रशेखर की न्यायमूर्ती के पद पर नियुक्ति के बाद सेवानिवृत्ती तक लगभग 17 सालों तक न्याय दान का कार्य किया। इस दौरान वे कुछ दिनों के लिए प्रभारी मुख्य न्यायमूर्ती भी रहे। इस दौरान उन्होंने महिला, आदिवासी, छोटे बच्चों, मानसिक बीमारों के मूलभूत अधिकार के लिए अनेक महत्त्वपूर्ण निर्णय दिए। साथ ही चंद्रशेखर न्यायाधीश के अलावा एक उत्तम लेखक भी थे। उन्होंने हिंदी, मराठी, गुजराती भाषा में पुस्तकें लिखी हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें