Advertisement

26/11 के हमलों में शहीद स्मारक को मरीन ड्राइव से स्थानांतरित किया जाएगा

रिपोर्टों के अनुसार, स्मारक को स्थानांतरित करने का काम शुरू हो चुका है और हमलों की 12 वीं वर्षगांठ से तीन दिन पहले 23 नवंबर तक समाप्त होने की संभावना है।

26/11 के हमलों में शहीद स्मारक को मरीन ड्राइव से स्थानांतरित किया जाएगा
SHARES

26/11 के आतंकवादी हमलों (26/11 mumbai attack)  के बाद, मरीन ड्राइव (Marine drive) पर पुलिस जिमखाना में शहीदों के लिए एक स्मारक का निर्माण किया गया था।  हालांकि, मरीन ड्राइव में भूमिगत मेट्रो कार्य के कारण, स्मारक को क्रॉफर्ड मार्केट के पास मुंबई पुलिस के मुख्यालय में नए आयुक्त कार्यालय भवन में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

स्थानांतरित करने का काम शुरू

एक रिपोर्ट के अनुसार स्मारक को स्थानांतरित करने का काम शुरू हो चुका है और हमलों की 12 वीं वर्षगांठ से तीन दिन पहले 23 नवंबर तक समाप्त होने की संभावना है।  अधिकारियों ने यह भी कहा कि स्मारक नए स्थान पर स्थायी रूप से रहेगा।

26/11 हमलों के शहीदों के स्मारक छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (CSMT), कोलाबा, कामा अस्पताल और गिरगांव चौपाटी पर बनाए गए हैं, जिसमें पुलिस जिमखाना शहर में सबसे बड़ा है।

26 नवंबर को, हर साल की तरह, महाराष्ट्र के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, डिप्टी सीएम, गृह मंत्री, मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, मुंबई पुलिस आयुक्त और राज्य के अन्य शीर्ष गणमान्य व्यक्ति स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

हमलों में शहर और राष्ट्र के लिए अपना जीवन देने वाले कुछ प्रमुख नामों में महाराष्ट्र के तत्कालीन आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) प्रमुख हेमंत करकरे;   शहीद संदीप उन्नीकृष्णन;  तत्कालीन मुंबई पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त अशोक कामटे; तत्कालीनवरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय सालस्कर और सहायक उप-निरीक्षक (एएसआई) तुकाराम ओम्बले सहित कई अन्य शामिल है। 


स्मारक, जो मुंबई पुलिस, रेलवे सुरक्षा बल (RPF), राजकीय रेलवे पुलिस (GRP), होमगार्ड्स और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के 18 जवानों को श्रद्धांजलि है, जो हमलों में शहीद हुए, पुलिस द्वारा सरंक्षित किया जाता है।

166 लोगों की हुई थी मौत

2008 में हुए आतंकवादी हमलों में 166 लोग मारे गए थे और कई अन्य घायल हो गए थे।  पाकिस्तान के दस आतंकवादी समुद्री मार्ग से देश की वित्तीय राजधानी में दाखिल हुए।  हालांकि, चार दिनों की लड़ाई के बाद, एक आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया गया, जबकि अन्य नौ को सुरक्षा बलों ने मार दिया।

यह भी पढ़े- 31 दिसंबर तक बंद रहेंगे मुंबई के स्कूल

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय