नोटबंदी के दौरान इन कंपनियों की हो रही थी चांदी

 BMC
नोटबंदी के दौरान इन कंपनियों की हो रही थी चांदी

देश की सबसे अमीर महानगरपालिका बीएमसी का इस साल का बजट 26 हजार करोड़ के आसपास था। बीएमसी ने नोटबंदी के दौरान एसएमएस कंपनी को 15 लाख रुपये का ठेका दिया। नोटबंदी के दौरान लोगों को 500 औऱ 1000 रुपये के नोट जमा करने के लिए  एसएमएस के जरिए जानकारी दी जा रही थी। 1.5 करोड़ लोगों को एसएमएस भेजने के लिए कंपनी ने एक एसएमएस के पीछे 85 पैसे लिए।

नबंबर 2016 में केंद्र सरकार ने नोटबंदी का निर्णय लिया था। जिसके बाद केंद्र और राज्य सरकार ने बीएमसी सहीत कई विभागो को एक निश्चित समय तक टैक्स लेने के लिए पूराने नोट लेने की इजाजत दी थी। जिसकी जानकारी बीएमसी ने मुंबई के सभी लोगों को एसएमएस के जरिए दी थी। जिसके लिए बीएमसी ने एक एसएमएस करनेवाली कंपनी को इस बाबत 15 लाख का ठेका दिया था। कंपनी ने 1 करोड़ 59 लाख 98 हजार 786 एसएमएस भेजने के लिए 15 लाख से अधिक रुपये लिए।

बीएमसी के टैक्स और संकलन विभाग के प्रमुख अधिकारी संजोग कबरे का कहना है की एसएमएस भेजने का ठेका मेसर्स एम गेज इंडिया प्राईवेट लिमिटेड कंपनी को दिया गया था।

Loading Comments