Advertisement

महाड, चिपलून, कोल्हापुर में नवी मुंबई नगर निगम की टीमों का अथक राहत कार्य

भारी बारिश की बाढ़ के कारण इन क्षेत्रों में गाद की ऊंची परतें और भारी मात्रा में कचरा जमा हो गया है। ऐसे में नवी मुंबई नगर निगम की राहत टीमें कीचड़ साफ कर कचरा इकट्ठा कर रही हैं

महाड, चिपलून, कोल्हापुर में नवी मुंबई नगर निगम की टीमों का अथक राहत कार्य
SHARES

पिछले सप्ताह कोंकण तट और पश्चिमी महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में बाढ़(Maharashtra flood)  के खतरे के चरम स्तर की घोषणा की गई थी।  नगर आयुक्त अभिजीत बांगड़ के निर्देश पर नवी मुंबई नगर निगम की राहत और चिकित्सा टीमों को यहां के लोगों की मदद के लिए तत्काल रवाना कर दिया गया है।  वहां पहुंचकर नगर निगम की टीमों ने स्थानीय प्राधिकरण के मार्गदर्शन में तत्काल राहत कार्य शुरू कर दिया है।

महाड़ क्षेत्र में 65 अधिकारी, स्वयंसेवकों की 2 सहायता टीम और कोल्हापुर क्षेत्र में 40 लोगों की 1 सहायता टीम सफाई और कीटाणुशोधन के लिए काम कर रही है। इसी तरह, चिपलून क्षेत्र में 15 डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की एक मेडिकल टीम स्वास्थ्य जांच कर रही है और 24 डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की एक अन्य टीम महाड क्षेत्र में स्वास्थ्य जांच कर रही है।

भारी बारिश की बाढ़ के कारण इन क्षेत्रों में गाद की ऊंची परतें और भारी मात्रा में कचरा जमा हो गया है।  ऐसे विपरीत हालात में नवी मुंबई नगर निगम की राहत टीम स्थानीय लोगों को आश्वस्त कर रही है और कीचड़ साफ कर कचरा भी इकट्ठा कर रही है। टीम के पास टिकाऊ, फावड़ा, फावड़ा, हुकुम, फावड़ा, कांटा फावड़ा, कचरा भरने के लिए खाली बोरे, मास्क, हैंडग्लव, गमबूट और कार्बोलिक पाउडर, ब्लीचिंग पाउडर जैसे कीटाणुनाशक जैसे आवश्यक सामान हैं।  साथ ही 1 जेसीबी, 4 टैंकर, 3 मिनी टिपर और 2 डंपर राहत कार्य के लिए भेजे गए हैं। कोविड (Coronavirus)से बचाव के उपायों के साथ सोडियम हाइपोक्लोराइड और छिड़काव पंप मुहैया कराए गए हैं।

घरों और उनके आसपास की सफाई के बाद सोडियम हाइपोक्लोराइड का छिड़काव और कीटाणुरहित किया जाता है।  सफाई के बाद दुर्गंध को दूर करने के लिए रसायनों का छिड़काव भी किया जा रहा है।  कुछ स्वयंसेवकों के लिए कीटनाशक छिड़काव के लिए अलग से व्यवस्था की गई है।  इसी तरह बड़ी संख्या में जानवरों की भी मौत हुई है और नवी मुंबई नगर निगम की राहत टीम भी उनके समुचित निस्तारण के लिए काम कर रही है।

इसी तरह नगर निगम की स्वास्थ्य टीमें भी चिपलून और महाड़ में स्थानीय अधिकारियों द्वारा निर्धारित क्षेत्रों में नागरिकों के स्वास्थ्य की जांच करने और उनका इलाज शुरू करने के लिए गई हैं।

यह भी पढ़ेRTI से मिली जानकारी, बीएमसी ने 1997 से सड़कों पर 21,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किए

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें