क्लिनिकल एस्टाब्लिशमेंट एक्ट के प्रति सरकार लापरवाह

 Mumbai
क्लिनिकल एस्टाब्लिशमेंट एक्ट के प्रति सरकार लापरवाह

  चिकित्सा क्षेत्र में पारदर्शिता लाने के लिए सरकार द्वारा बनाए गए क्लिनिकल एस्टाब्लिशमेंट एक्ट पर सरकार लापरवाह दिख रही है। साल 2012 में केंद्र सरकार ने मरिजों की सुविधा देने और कम पैसों में इलाज देने के लिए क्लिनिकल एस्टाब्लिशमेंट एक्ट की शुरुआत की थी। जिसपर पिछलें पांच सालों से राज्य सरकार ने कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए है।

पांच साल की उदासिनता के बाद सरकरा को अब जाकर कही इस एक्ट के बारें में ख्याल आया। राज्य सरकार ने इस एक्ट को लागू करने के लिए एक पैनल बनाया है जिससे इस एक्ट से जुड़ी बातों पर अध्ययन करने को कहा है।

स्वास्थ कार्यकर्ता उमेश खाके का कहना है की राज्य सरकार ने इस एक्ट को सिरियस नहीं लिया है। जिसके कारण इसे लागू करने में देरी हुई।

Loading Comments