• जज लोया मामला: मुंबई में अनोखा टीशर्ट आंदोलन
SHARE

जस्टिस लोया को न्याय दिलाने के लिए मुंबई में एक अनोखा अभियान देखने को मिला। सामाजिक कार्यकर्ताओं का एक ग्रुप एक टीशर्ट पहन कर घूम रहा था जिसमें Who Killed Justice Loya?" लिखा हुआ था। इस ग्रुप में एक महिला सहित 7 लोग शामिल थे। यह ग्रुप चर्चगेट से अँधेरी तक घूम घूम कर इस बारे में आम लोगों का ध्यान आकर्षित करा रहा था।


कैसा था टीशर्ट आंदोलन?
मंगलवार को भी इस ग्रुप ने घूम घूम कर सरकार के विरोध में और जस्टिस लोया की संदिग्ध मौत का विरोध दर्ज कराने के लिए जागरूकता अभियान चलाया। यह ग्रुप मुंबई के बोरीवली से चर्चगेट के बीच स्थित बड़े स्टेशनों पर उतर कर एक कतार में खड़ा हो जाता और जस्टिस लोया से संबंधित पंपलेट लोगों में बांटते।


यह भी पढ़ें: जज लोया मौत मामला- सभी मामलों की अब केवल सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई


इस ग्रुप के प्रमुख विनोद चांद हैं। विनोद कहते हैं कि इस टीशर्ट आंदोलन के माध्यम से हम  जानना चाहते हैं क़ि जज लोया के साथ क्या हुआ, उनकी मौत कैसे हुई और इसका जिम्मेदार कौन है? और जब तक पूरी सच्चाई हमारे सामने नहीं आ जाती है ऐसे ही जागरूकता अभियान चलाये रखेंगे।


कौन हैं जज लोया, क्या हुआ था उनके साथ?

आपको बता दें कि 48 साल के जज लोया दिसंबर 2014 में अपने किसी मित्र के बेटी की शादी में नागपुर गए थे. जज लोया ने वहां तबीयत बिगड़ने की बात कही जिसके बाद उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया। लेकिन जज लाया की कुछ देर बाद ही मौत हो गयी, डॉक्टरों ने अपनी रिपोर्ट में मौत का कारण हार्ट अटैक बताया था.

लेकिन इस मामले में मोड़ उस समय आया जब लाया के परिवार वालों ने लोया की मौत को लेकर संदेह जताया। एक पेपर में इंटरव्यूह देते हुए परिजनों ने कहा कि सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस को लेकर उन्हें (जस्टिस लोया) को हाई कोर्ट के एक जज ने रिश्वत ऑफर की थी।
 
गौरतलब है कि सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का भी नाम जुड़ा था। इस केस की सुनवाई सीबीआई कोर्ट में चल रही थी जहां जज लोया ही इस केस की सुनवाई भी कर रहे थे. लोया परिवार के मुताबिक केस की सुनवाई के दौरान लोया काफी तनाव में रहा करते थे। 

यह भी पढ़ें: सोहराबुद्दीन मामले की सुनवाई कर रहे जज का तबादला, कांग्रेस ने उठाये सवाल!

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें