मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर ग्रीन एनर्जी से रोशनी, पश्चिम रेलवे की पहल

सूर्य की रोशनी से किया जा रहा है रेलवे स्टेशन को प्रकाशित

SHARE

पश्चिम रेलवे की ओर से एक अनोखे पहल की शुरुआत की गई है। पश्चिम रेलवे के मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर ग्रीन एनर्जी की सहायता से प्रकाश लाया जा रहा है। पश्चिम रेलवे ने मुंबई सेंट्रल स्टेशन की प्राकृतिक रोशनी का रास्ता अपनाया है।पश्चिम रेलवे ने एक ऐसी योजना बनाई है कि सूर्य की रोशनी प्राकृतिक प्रणाली की छतों के माध्यम से फैल जाएगी। इसके अलावा, स्टेशन की सुंदरता में भी इसका काफी असर पड़ेगा।


यह भी पढ़े- दुर्घटना को दावत देते खुले मेनहोल्स, घोषणा के बाद भी 550 मेनहोल्स बिना जालियों के

मुंबई सेंट्रल स्टेशन की छत से विशेष केंद्रीय पाइप का उपयोग किया गया है। स्टेशन के मुख्य भाग में स्थापित पाइप के कारण प्राकृतिक सूर्य किरणें स्टेशन में फैल जाती है। इसके लिए, छतों पर स्थापित मोल्डों में कुछ बदलाव किए गए हैं। यही कारण है कि ऊर्जा की बजत के साथ साथ स्टेशन पर रोशनी की भी कोई कमी नहीं हो रही है।

यह भी पढ़े- गोरेगांव से पनवेल के लिए लोकल ट्रेन अगस्त से हो सकती है शुरू?

इस प्रणाली को और भी सक्षम बनाने के लिए छतों में भी बदलाव किया जा रहा है। यह पश्चिम रेलवे पर इस तरह का पहला प्रयोग है जो सफल रहा है। यह प्रणाली लगभग 20 सालों तक सक्रिय रहेगी और इसके साथ ही बारिश के दौरान भी इसका असर कम नहीं होगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें