मौत का खाना, एफडीए ने जांच में सही पाया

 Mumbai
मौत का खाना, एफडीए ने जांच में सही पाया

मुंबई – चेंबूर स्थित सामाजिक कल्याण विभाग द्वारा संचालित संत एकनाथ हॉस्टल का एफडीए विभाग ने औचक दौरा करके वहां के मेस का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण में एफडीए ने ठेकेदारों द्वारा अन्न सुरक्षा कानून का उल्लंघन करने का दोषी पाया है। अब एफडीए की कार्रवाई का सामना इन ठेकेदारों और हॉस्टल वालों को करना पड़ सकता है। रविवार को इसी हॉस्टल में बच्चों के लिए बनाये गये खाने में छिपकली मिलने से हडकंप मच गया था।

सोमवार को एफडीए द्वारा किये गये इस निरीक्षण में अधिकारियों ने रसोई घर में गंदगी का अम्बार पाया। साथ ही अधिकारियों ने यह भी माना कि यहां के वातावरण में खाना नहीं पकाया जा सकता। एफडीए के सहायक कमिश्नर (अऩ्न) बृहन्मुंबई, सुरेश अन्नपुरे ने इस हॉस्टल को नोटिस देने की भी जानकारी दी। अन्नापुरे ने आगे यहां भी बताया कि इस नोटिस के अनुसार ठेकेदारों को 15 दिन के अंदर साफ़ सफाई और बच्चों को अच्छे और पौष्टिक खाना उपलब्ध कराने के उपाय करने होंगे अन्यथा ठेकेदारों के लाइसेंस को रद्द किया जा सकता है। इसके आदेश सामाजिक न्याय मंत्री दिलीप कांबले ने दिए है। 

छात्रों की परेशानी का अंत नहीं

रविवार को शुरू हुआ छात्रों की परेशानी का दौर अभी तक जारी है। छात्र गोरख उबाले ने बताया कि रविवार से ही बाहर खाना खा रहे हैं। सोमवार रात के खाने में उन्हें ठेकेदारों ने पुलाव बना कर दिया था, लेकिन मंगलवार को फिर से उन्हें खाना नहीं मिला। उबाले ने कहा कि जब तक नए ठेकेदार की नियुक्त नहीं होगी यहां ऐसा ही हाल रहेगा। यहां के छात्रों ने इसकी शिकायत शिक्षा मंत्री से भी करने की बात कही।

Loading Comments