पानमसाला-गुटखा बंदी की ऐशी-की तैशी करनेवालों की खैर नहीं

 Mantralaya
पानमसाला-गुटखा बंदी की ऐशी-की तैशी करनेवालों की खैर नहीं

मुंबई - राज्य में गुटखा, पान मसाला और सुगंधित सुपारी की बिक्री पर लगभग 5 साल पहले ही प्रतिबंध लग चुका है। बावजुद इसके मुंबई शहर में छुपे हुए तरिके से कानून को ताख पर रखकर गुटखा, पानमसाला और सुगंधित सुपारी की बिक्री हो रही है। यहां तक की मंत्रालय परिसर में भी कानून को ताक पर रखकर गुटखा-पान मसाला की बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। जिसका पर्दाफाश मुंबई लाइव ने किया।

यह भी पढ़े- मंत्रालय के बाहर खुलेआम उड़ती कानून की धज्जियां

मुंबई लाइव के स्टिंग ऑपरेशन में कैद हुआ गोरखधंदे का यह पूरा खेल। मुंबई लाइव पर खबर दिखाने के बाद खाद्य और दवा (एफडीए) में हड़बड़ाहट मच गई। सहआयुक्त (अन्न), बृहनमुंबई सुदेश अन्नपुरे ने मुंबई लाइव को आश्वासन दिया की मंत्रालय परिसर मे और आसपास के इलाकोम में इन अवैध गुटखा और पान मसाला करनेवालों के खिलाफ अभइयान चलाया जाएगा और अपराधियों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

साल 2012 में राज्य सरकार ने गुटखा की बिक्री पर बैन लगाया था। पिछलें चार सालों में एफडीए ने छापेमार कार्रवाई कर कई जगहों से लाखों रुपये के अवैध गुटखा और पान मसाला जब्त किये है। बावजूद इसके अभी तक शहर के कई हिस्सों में इनकी अवैध बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। मुंबई लाइव के खबर दिखाने के बाद खहर को गंभीरता से लेते हुए एफडीए ने अपने 8 से 10 अधिकारियों की एक टीम तैयार की है। इस मुहिम के तर अवैध गुटखा और पान मसाला बेचनेवालों को तुरंत ही गिरफ्तार किया जाएगा।एफडीए अधिकारी सुदेश अन्नपुरे का कहना है की राज्य में गुटखा और पान मसाला के उत्पादन पर बंदी है बिक्री पर नहीं। कर्माटक और गुजरात जैसे राज्यों से बड़े पैमाने पर गुटखा और पान मसाला महाराष्ट्र में लाया जाता है और इनकी बिक्री की जाती है।



यह भी पढ़े- दहिसर में पकड़ाया लाखों का गुटखा


"विशेष टीम बनाकर ऐसे अवैध विक्रेताओं पर कड़क  कार्रवाई की जाएगी और संबंधित अधिकारियों को भी इस बाबात आदेश दिये जा चुके है"-  गिरीश बापट, खाद्य एवं औषधि आपूर्ति मंत्री

भ्रष्ट अधिकारियों के कारण गुटखा पानमसाला की हो रही है बिक्री

 आरटीआई कार्यकर्ता आर. पी. वाय का कहना है की कुछ भ्रष्ट अधिकारियों के कारण शहर में धड़ल्ले से अवैध तरिके से गुटखा और पान मसाला की बिक्री की जा रही है। की बार एफडीए के अधिकारी ऐसे लोगों को पकड़कते है जो अवैध तरिके से गुठखा बेचते है लेकिन कुछ भ्रष्ट अधिकारियों के चलते वह फिर से छुट जाते है। एफडीए को ऐसे अधिकारियों पर कार्रवाई करनी होगी। साथ ही मुंबई लाइव के इस स्टिंग ऑपरेशन को भी आर. पी. वाय एक साहसी कदम बताया।


(मुंबई लाइव एप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें)


Loading Comments