अगर आप भी करते है इंवेस्ट, तो बच कर रहे ऐसे गैंग से

 Kherwadi
अगर आप भी करते है इंवेस्ट, तो बच कर रहे ऐसे गैंग से

मुंबई- अपने साथियों के साथ मिलकर हजारों लोगों को करोड़ों रुपए का चूना लगाने वाले नासिक के महाठग को खेरवाडी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। नासिक पुलिस और नासिक पुलिस क्राइम ब्रांच पिछलें ६ महीनों से उक्त महाठग की तलाश कर रही थी।

खेरवाडी पुलिस द्वारा गिरफ्तार आरोपी विनोद पाटिल ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर नासिक के गंगा पुर रोड पर 'हाउस ऑफ इंवेस्टमेंट' नामक निवेश कंपनी शुरू की। लोगों को निवेश पर मासिक रूप से आकर्षक ब्याज देने का प्रलोभन दिया। शुरुआत के कुछ महीने इन ठगों ने निवेशकों को ईमानदारी से पैसे लौटा कर उनका विश्वास जीता लेकिन बाद में कंपनी बंद करके ये ठग फरार हो गए। पेशे से वकील गणेश देसाई की शिकायत पर २० अगस्त, २०१६ को इन महाठगों के खिलाफ नासिक के गंगापुर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी।

जांच में इन महाठगों द्वारा ३६६४ निवेशकों से ३०.९३ करोड़ की ठगी का खुलासा हुआ। इस मामले में अन्य ठगों को तो नासिक पुलिस और क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया था लेकिन इस ठगी का मास्टरमाइंड नासिक के पाथर्डी-देवलाली स्थित निसर्ग कॉलोनी के साई विला अपार्टमेंट निवासी २८ वर्षीय महाठग विनोद बालू पाटिल पुलिस को चकमा देने में कामयाब हुआ।

खेरवाडी पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र पाटिल ने बताया कि १५ मार्च,२०१७ को नासिक क्राइम ब्रांच की आर्थिक अपराध शाखा ने विनोद पाटिल के बांद्रा-पूर्व स्थित आराम होटल में आने की संभावना से संबंधित सूचना खेरवाडी पुलिस को दी। जिसके बाद खेरवाडी पुलिस के उपनिरीक्षक कमलाकर सोनटक्के, खाड़े, सिपाही लोखंडे, व कोईगड़े की टीम ने जाल बिछा कर विनोद पाटिल को धर दबोचा। फिलहाल खेरवाडी पुलिस ने विनोद पाटिल को गंगापुर पुलिस को सौंप दिया है।

Loading Comments