पति की हत्या का इंसाफ मांग रही पत्नी

माहिम - आपसी मारपीट में एक की मौत होने के बाद भी पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं किया, क्योंकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में प्रथम दृष्टया मौत की वजह का स्पष्ट उल्लेख नहीं किया गया था। घटना माहिम के आजाद नगर के शाहू नगर पुलिस स्टेशन का है, जहां 21 नवम्बर को महादेव भडदाल (53) की मारपीट के बाद मौत हो गयी थी। महादेव भडदाल की पत्नी शैला ने बताया कि पिछले कई सालों से उनके पति का संपत्ति को लेकर परिवार के अन्य सदस्यों के साथ विवाद चल रहा था। इसी साल फरवरी महीने में विवाद के चलते परिवार वालों ने शैला को मारा पीटा था जिसको लेकर शैला ने केस दर्ज किया था। परिवार वाले शैला पर केस वापस लेने का दबाव बना रहे थे। लेकिन शैला द्वारा केस वापस न लेने से परिवार वालों ने महादेव भडदाल को मार दिया।

केस दर्ज न करने के संदर्भ में जब मुंबई लाइव ने शाहू नगर पुलिस से सम्पर्क किया तो पुलिस ने महादेव भडदाल के शरीर पर चोट का कोई निशान नहीं होने के कारण डॉक्टर की फाइनल रिपोर्ट के बाद ही आगे जांच करने की बात कह कर अपना पीछा छुड़ा लिया। अब सवाल यह उठता है कि अगर रिपोर्ट आने में दो-चार महीने की देरी हो गयी तो क्या आरोपी तब तक खुलेआम घूमता ही रहेगा? समय मिलने पर आरोपी कही और जगह भाग गया तो क्या? आरोपी शैला पर दबाव डाल कर उनके साथ कुछ भी कर सकते है उसका जिम्मेदार कौन होगा? शैला ने पुलिस कमिश्नर से लेकर मुख्यमंत्री तक सभी से न्याय की गुहार लगायी है लेकिन अभी तक कहीं से कुछ जवाब नहीं मिला है।

Loading Comments