गौरी लंकेश मर्डर के आरोपियों के हिरासत की मांग एटीएस ने की


SHARE

पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश मर्डर केस के प्रमुख आरोपियों सुजीत कुमार और भरत कुरणे को एटीएस ने बुधवार को अपने कब्जे में ले लिया। इन्हें कर्नाटक की एसआईटी ने गिरफ्तार किया था। बताया जाता है कि इन दोनों का हाथ नालासोपारा हथियार बरामदगी मामले में भी सामने आया है। यही नहीं इनके खिलाफ यह भी आरोप है कि इन्होने फिल्म पद्मावत विवाद के दौरान बेलगांव के एक थियेटर में बम ब्लास्ट भी करवाया था और पुणे में आयोजित होने वाले सनबर्न फेस्टिवल के दौरान ब्लास्ट करना चाहते थे। अब तक इस मामले में कुल 9 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं।


हथियार मामले में सामने आया नामा 
बैंगलोर का रहने वाला सुजीत कुमार तीन महीने से तो बेलगांव का रहने वाला भरत कुरणे डेढ़ महीने से न्यायिक हिरासत में है। इन दोनों के नाम अब नालासोपारा हथियार मामले में सामने आने के बाद एटीएस ने कोर्ट से इन दोनों के हिरासत की मांग की। कोर्ट को एटीएस ने बताया कि ये दोनों वैभव राउत के सम्पर्क में भी थे। नालासोपारा में रहने वाला वैभव राउत के घर से ही एटीएस ने भारी मात्रा में बंदूकों और बमों का जखीरा बरामद किया था।


पढ़ें: गौरी लंकेश मर्डर केस: सुधन्वा गोंधलेकर को SIT ने अपनी हिरासत में लिया


 
अब तक 9 लोग हो चुके हैं गिरफ्तार 
नालासोपारा मामले में एटीएस ने अब तक वैभव राऊत, शरद कलसकर, सुधन्वा गोंधलेकर, श्रीकांत पांगरकर, अविनाश पवार, वासुदेव सूर्यवंशी और लीलाधर उर्फ विजय को तो गिरफ्तार किया ही था साथ ही अब सुजीत कुमार और भरत कुरणे को भी हिरासत में लिया गया है, यानी अब तक कुल 9 लोगों को एटीएस ने अपनी गिरफ्त में लिया है।

जुड़ रहे हैं एक दूसरे से तार 
इसके पहले पुलिस ने दाभोलकर हत्या मामले में सचिन अंधुरे और शरद कलसकर को गिरफ्तार किया था और गौरी लंकेश मामले के मुख्य सूत्रधार अमोल काले को भी गिरफ्तार किया गया था। दाभोलकर मर्डर केस की जांच कर रही सीबीआई भी अब इन्हे हिरासत में लेकर इनसे पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें