कई खतरनाक आतंकियों के बीच रहेगा विजय माल्या

इसके पहले माल्या ने अपने प्रत्यपर्ण को टालने के लिए भारतीय जेलों को गंदा और असुरक्षित बताते हुए अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा का हवाला दिया था। इसके बाद आर्थर रोड जेल प्रशसान ने जेल का विडियो रिकॉर्डिंग कराया और उसे लंदन की कोर्ट में पेश किया था, तब कोर्ट ने कहा मुंबई की आर्थर रोड जेल में माल्या को कोई खतरा हो सकता है।

SHARE

अगर विजय माल्या भारत आता है तो उसका नया ठिकाना बनेगी मुंबई स्थित आर्थर रोड जेल। जेल प्रशासन ने विजय माल्या के रहने लायक इस जेल को हाल ही में रिडेकाेरेट भी किया है। इसके पहले माल्या ने अपने प्रत्यपर्ण को टालने के लिए भारतीय जेलों को गंदा और असुरक्षित बताते हुए अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा का हवाला दिया था। इसके बाद आर्थर रोड जेल प्रशसान ने जेल का विडियो रिकॉर्डिंग कराया और उसे लंदन की कोर्ट में पेश किया था, तब कोर्ट ने कहा मुंबई की आर्थर रोड जेल में माल्या को कोई खतरा हो सकता है। इसके बाद कोर्ट ने उसे वापस भारत भेजने के फैसले पर मोहर लगा दी।

पढ़ें: लंदन कोर्ट ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण को दी मंजूरी

'सरकार माल्या का रखेगी ध्यान' 
भारतीय बैंकों से करीब 9 हजार करोड़ रुपए लोन लेकर विदेश भाग गये माल्या को वापस लाने के लिए भारत की कोशिश आखिर सफल हो ही गयी। माल्या भी अपने प्रत्यर्पण को लेकर बार-बार अडंगा लगा रहा था। माल्या के प्रत्यर्पण को लेकर कोर्ट ने कहा कि माल्या को आर्थर रोड जेल में कोई खतरा नहीं है। उसे डायबिटीज और हृदय संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए उचित मेडिकल मदद मुहैया कराई जाएगी। कोर्ट ने आगे कहा कि माल्या का भारत सरकार ध्यान रखेगी और वह दवाएं ले रहा है वह उन्हें लगातार मिलती रहेगी। जेल की तरफ से इस बात का यकीन दिलाया गया है कि माल्या अपने पर्सनल डॉक्टर से कंसल्ट कर सकेगा।

पढ़ें: विजय माल्या के लिए बदली जा रही है आर्थर रोड जेल के बैरक नंबर 12 की शक्लोसूरत!

कई खतरनाक आतंकी हैं यहां 
आपको बता दें कि माल्या को आर्थर रोड जेल की दो मंजिला बैरक नंबर 12 के ग्राउंड फ्लोर में स्थित तीन सेल में से किसी एक में रखा जाएगा। गौरतलब है कि यहीं पर 26/11 हमले के दोषी आतंकवादी अजमल कसाब को भी रखा गया था। और खतरनाक आतंकवादी अबु जुंदाल सहित कई आतंकी यहां कैद है। यहीं पर दाउद इब्राहिम का भाई इकबाल कासकर और गैंगस्टर अबू सलेम भी रह चुके हैं। इसके अलावा इस समय शीना बोरा मर्डर केस के आरोपी पीटर मुखर्जी भी इसी बैरक में मौजूद है। इसी सेल के पूर्व कैदियों में पूर्व उपमुख्यमंत्री छगन भुजबल और एनसीपी के विधायक रमेश कदम का भी नाम शामिल है।

पढ़ें: विजय माल्या को हाईकोर्ट से राहत नहीं , ED के खिलाफ अपील खारिज

हाई सिक्युरिटी से लैस है यह जेल 
आर्थर रोड जेल को काफी सुरक्षित माना जाता है। यहां हाई सिक्यॉरिटी बैरक में सीसीटीवी लगे हुए हैं साथ ही चौबीस घंटे ऑटोमेटिक हथियारों से लैस पुलिस मौजूद रहते हैं। बताया जाता है कि कसाब के आने के बाद इस बैरक को आग और बम प्रूफ बनाया गया था। इसके पहले फ्लोर में जहां कसाब कैद था अब 26/11 हमले का एक अन्य दोषी अबु जुंदाल अपने आधा दर्जन साथियों के साथ कैद है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें