पायल तडवी सुसाइड केस: कोर्ट ने पुलिस को आरोपियों से जेल के अंदर पूछताछ करने की दी इजाजत

अपनी अर्जी में पुलिस ने यह भी कहा है कि पायल द्वारा आत्महत्या करने के बाद इन तीनो ने ही सबसे पहले उसका दरवाजा खोला था और उसके शव कप कमरे से निकाल कर ट्रॉमा सेंटर तक ले गये थे। इसीलिए इन सारी कड़ियों की जांच करना चाहते हैं।

SHARE

डॉ. पायल तडवी सुसाइड मामले में मुंबई की एक विशेष अदालत ने जेल में बंद तीनों महिला डॉक्टरों से पुलिस को जेल में पूछताछ करने की अनुमति दे दी है। इसके पहले पुलिस ने इन तीनों से पूछताछ करने के लिए अनुमति मांगी थी। आपको बता दें कि जातिगत टिप्पणियों से परेशान हो कर जूनियर डॉक्टर पायल तडवी ने सुसाइड कर लिया था। सुसाइड नोट में पायल ने अपने सीनियर डॉक्टरों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया था।जांच में पुलिस ने डॉक्टर हेमा अहूजा, अंकिता खंडेलवाल और भक्ति मेहेर को गिरफ्तार किया था जो इस समय भायखला जेल में बंद हैं।

सीबी ने कोर्ट से की मांग 
इस केस की जांच जल्द से जल्द पूरी हो मात्र हफ्ते भर में ही इसकी जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गयी थी।लेकिन तब तक इन तीनों आरोपियों को पुलिस कस्टडी मिल चुकी थी। इसके बाद पुलिस ने इन तीनों से पूछताछ के लिए कोर्ट से मांग की थी।

सुसाइड नोट का रहस्य 
पुलिस को इस बात का  शक है कि पायल ने एक सुसाइड नोट लिखा था, और इन तीनों ने सबसे पहले पहुंच कर सुसाइड नोट को नष्ट कर दिया। यही नहीं इस सुसाइड नोट का फोटो पायल ने अपने मोबाइल में भी लिया था, क्योंकि फोरेंसिक जांच में पुलिस के हाथ उस सुसाइड नोट की फोटो लगी थी साथ ही मोबाइल में आरोपी तीनों डॉक्टरों की फोटो भी मिली थी।

कड़ियां जुड़ेंगी?
अपनी अर्जी में पुलिस ने यह भी कहा है कि पायल द्वारा आत्महत्या करने के बाद इन तीनो ने ही सबसे पहले उसका दरवाजा खोला था और उसके शव कप कमरे से निकाल कर ट्रॉमा सेंटर तक ले गये थे। इसीलिए इन सारी कड़ियों की जांच करना चाहते हैं।

आरोपियों की बढ़ी न्यायिक हिरासत
इसके बाद न्यायाधीश पी बी जाधव ने जांच अधिकारी को सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 11 बजे से लेकर शाम पांच बजे तक तीनों आरोपियों से पूछताछ करने की अनुमति दी। हालांकि बचाव पक्ष के वकील द्वारा जेल के अंदर पुलिस की इस पूछताछ पर कोई आपत्ति नहीं जताई गयी है, इस बीच तीनों आरोपियों की न्यायिक हिरासत शनिवार को 14 दिनों के लिए और बढ़ा दी गई।   

पढ़ें: पायल तडवी मामले के बाद नायर अस्पताल ने उठाया यह कदम, ऐसा करने वाला मुंबई का बना पहला अस्पताल

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें

YouTube वीडियो