PMC scam: हुआ चौकानें वाला खुलासा, रिकॉर्ड से 10.5 करोड़ का हिसाब गायब

पहले यह बताया गया था कि बैंक में कुल 4335 करोड़ रूपये का घोटाला हुआ है, लेकिन अब 6500 करोड़ रूपये का घोटाला सामने आया है।

SHARE


पंजाब एंड महाराष्ट्र को.ऑपरेटिव बैंक (PMC) घोटाले मामले में नया-नया चौकानें वाला खुलासा सामने आया है। खुलासे के मुताबिक़ PMC के रिकॉर्ड के मुताबिक 10.5 करोड़ रुपए का कोई हिसाब ही नहीं मिल रहा है। जांच कर रही टीम के अनुसार HDIL और उससे संबंधित कंपनी को जो चेक जारी किये गये थे, उन चेको को बैंक में जमा ही नहीं किया गया बल्कि उसके बदले पैसे दिए गये। कहा जा रहा है कि PMC बैंक घोटाला 4335 करोड़ रुपए का नहीं बल्कि 6500 करोड़ रुपए का है।

क्या है मामला?
PMC ने HDIL को साल 2008 से 2019 से लेकर  लोन पास किया था, लेकिन यह लोन पास करते समय तमाम अनियमितिता बरती गयी थी। यही नहीं लोन नहीं चुकाने पर इसे NPA में भी नहीं डाला गया साथ ही RBI पसे पास फर्जी रिपोर्ट भेज कर हकीकत छुपाई गयी। PMC ने दिवालिया हो चुके HDIL को कुल 6500 करोड़ रुपए का कर्ज दिया था। इसी कर्ज में से 10 करोड़ रुपए का हिसाब नहीं मिल रहा है। जांच टीम को जांच के दौरान जो चेक मिले हैं वह कुल 10 करोड़ रूपये से अधिक हैं। इसके अलावा 50 से 55 लाख रूपये का भी कोई हिसाब नहीं मिल रहा है। 

पढ़ें: PMC बैंक के ग्राहकों को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं

जांच में यह बात भी सामने आई है कि HDIL और ग्रुप कंपनियों को पैसे चाहिए थे, पहले दो सालों में बैंक के पूर्व संचालक जॉय थॉमस ने चेक भेजे थे, लेकिन बाद में चेक नहीं जमा किये गये बल्कि उसकी जगह कैश जमा कर दिए गये। बैंक के रिकॉर्ड बुक  में इन चेकों की इंट्री भी नहीं मिली है। बताया जाता है कि जॉय थॉमस ने लाखों रुपये अपने पास ही रख लिए।  

इसके पहले यह बताया गया था कि बैंक में कुल 4335 करोड़ रूपये का घोटाला हुआ है, लेकिन अब 6500 करोड़ रूपये का घोटाला सामने आया है।

पढ़ें: मनमोहन सिंह की ये बात PMC ग्राहको को देगी राहत !

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें