Coronavirus cases in Maharashtra: 920Mumbai: 526Pune: 101Pimpri Chinchwad: 39Islampur Sangli: 25Kalyan-Dombivali: 23Ahmednagar: 23Navi Mumbai: 22Thane: 19Nagpur: 17Panvel: 11Aurangabad: 10Vasai-Virar: 8Latur: 8Satara: 5Buldhana: 5Yavatmal: 4Usmanabad: 3Ratnagiri: 2Kolhapur: 2Jalgoan: 2Nashik: 2Other State Resident in Maharashtra: 2Ulhasnagar: 1Sindudurga: 1Pune Gramin: 1Gondia: 1Palghar: 1Washim: 1Amaravati: 1Hingoli: 1Jalna: 1Total Deaths: 52Total Discharged: 66BMC Helpline Number:1916State Helpline Number:022-22694725

गुलशन कुमार के हत्या की खबर की सूचना पहले ही मिल गयी थी, राकेश मारिया का एक और खुलासा

खुलासा करते हुए मारिया ने अपनी किताब में लिखा है कि गुलशन कुमार की हत्या होने वाली है इस बात की जानकारी उन्हें पहले से ही एक व्यक्ति ने फोन करके दे दी थी।

गुलशन कुमार के हत्या की खबर की सूचना पहले ही मिल गयी थी, राकेश मारिया का एक और खुलासा
SHARE


मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया (rakesh maria) की किताब 'लेट मी से इट नाउ' (let me say it now)के माध्यम से एक के बाद एक करके कई मुद्दों का जैसे जैसे खुलासा हो रहा है वैसे वैसे विवाद बढ़ता जा रहा है। इसी कड़ी में टी सीरिज (T-Series) के मालिक गुलशन कुमार की हत्या से जुड़ा हुआ मामला सामने आया है। इस मामले में खुलासा करते हुए मारिया ने अपनी किताब में लिखा है कि गुलशन कुमार (gulshan kumar) की हत्या होने वाली है इस बात की जानकारी उन्हें पहले से ही एक व्यक्ति ने फोन करके दे दी थी।

राकेश मारिया अपनी किताब में लिखते हैं कि, एक दिन उन्हें अनजान फोन आया, फोन करने वाले ने बताया कि, ‘सर, गुलशन कुमार का विकेट गिरनेवाला है!'  जब इस बारे में मारिया ने कुछ लोगों से पूछताछ और जांच की तो उन्हें पता चला कि गुलशन कुमार की सुपारी दाउद का राईट हैंड छोटा शकील (chhota shakeel) ने ली है, और कभी भी गुलशन कुमार की हत्या हो सकती है।

यही नहीं मरिया को इस बात का भी पता चला कि गुलशन कुमार को मंदिर जाते समय या वहां से आते समय ही मार सकते हैं। इस बात की जानकारी मिलने के बाद मारिया ने फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट को फोन करके जानकारी दी थी। 

इसके बाद मारिया ने क्राइम ब्रांच पुलिस को बताया कि गुलशन कुमार की जान खतरे में है, साथ ही उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश भी दिया। लेकिन जब उत्तर प्रदेश पुलिस और कमांडो ने गुलशन कुमार की सुरक्षा की जिम्मेदारी ली थी तो मुंबई पुलिस ने अपनी सुरक्षा वापस ले ली। लेकिन कुछ महीने बाद यूपी पुलिस ने गुलशन कुमार की सुरक्षा में इसीलिए ढील कर दी कि उन्हें लगा कि अब खतरा टल गया है।

आख़िरकार 12 अगस्त 1997 को जुहू के जीत नगर में स स्थित एक मंदिर के बाहर गुलश कुमार की हत्या उस समय कर दी गई जब वे पूजा करके बाहर निकल रहे थे।

पढ़ें: डॉन छोटा शकील ने कहा, 'राकेश मारिया किताब बेचने के लिए झूठ बोल रहे हैं'

 

संबंधित विषय
संबंधित ख़बरें