तोड़क कार्यवाई के दौरान महिला का गर्भपात

    Virar
    तोड़क कार्यवाई के दौरान महिला का गर्भपात
    मुंबई  -  

    विरार में मनपा तोड़क कार्यवाही के दौरान महिला के साथ धक्कामुक्की के कारण गर्भवती महिला को ब्लीडिंग शुरू हो गया। जिसके बाद उसे तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया। ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण महिला का २ महीने का बच्चे का गर्भपात हो गया। इस मामले की लिखित शिकायत पुलिस और मनपा से की गयी है।
    पीड़ित महिला अलीशा नितिन उत्तेकर विरार ईस्ट के अबला महिला नारी प्रतिष्ठान शिलाई केंद्र में दोपहर के वक्त आराम कर रही थी। इसी दौरान महानगर पालिका की सहायक आयुक्त स्मिता भोईर की टीम शिलाई केंद्र पर तोड़क कार्रवाई करने के लिए पहुंची। अलीशा अंदर सोइ हुई थी तभी स्मिता भोईर ने डेमोलेशन करना शुरू कर दिया , उसी दौरान जब पीड़ित की नींद खुली और वह भागकर केंद्र के बहार आई और तोड़क कार्रवाई का विरोध किया इसी दरमयान महानगर पालिका की महिला अधिकारी ने पीड़िता को धक्का देकर भगाने लगी , जिससे पीड़ित महिला गिर गई और तुरंत महिला को ब्लीडिंग होने लगी।गौरतलब है की इस घचना की पूरी जानकारी विरार पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक यूनुस खान को बता दी गई थी बावजूद इसके पुलिस का कोई भी कर्मचारी महिला का स्टेटमेंट रिकॉर्ड करने के लिए अस्पताल नहीं गया। और ना ही आरोपियों पर किसी तरह की कार्रवाई की गई है।

    वही इस घटना से नाराज अग्रि सेना पालघर के अध्यक्ष जनार्दन पाटिल ने इस मामले में पुलिस को जानकारी देते हुए बताया की अगर पुलिस पीड़ित महिला को न्याय नहीं देगी तो अग्रिसेना उसी जगह पर अनशन पर बैठेगी।विरार पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई यूनुस खान का कहना है की है मामले की अभी जांच की जाएगी, डेमोलेशन के समय वहा कोई भी पुलिस अधिकारी मौजूद नहीं थे। सहायक आयुक्त ने कोई पुलिस बंदोबस्त नहीं लिया था और डेमोलेशन के वक्त विडिओ रिकॉर्डिंग की गई है उसको देखने के बाद एक्शन लिया जायेगा।


    डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

    मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

    (नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

    Loading Comments

    संबंधित ख़बरें

    © 2018 MumbaiLive. All Rights Reserved.