‘ख्यालों की कश्ती’ में डूबा समा

 Bandra west
‘ख्यालों की कश्ती’ में डूबा समा
‘ख्यालों की कश्ती’ में डूबा समा
‘ख्यालों की कश्ती’ में डूबा समा
See all

बांद्रा - बहुत सारे लोग होते हैं जिन्हें शेरो शायरी और कविता लिखने का शौक होता है, पर उन्हें अपनी शायरी और कविताओं को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने का प्लेटफॉर्म नहीं मिलता। ऐसे शायरों और कवियों को प्लेटफॉर्म देने का काम किया है कुणाल झावर और उनके कुछ दोस्तों ने, इन्होंने मिलकर फेसबुक पर ‘ख्यालों की कश्ती' नाम का फेसबुक पेज बनाया है। यहां पर शायरी और कविताओं के शौकीन अपनी शायरी और कविताएं शेयर कर सकते हैं।

रविवार को बांद्रा स्थित पिकोक लाईफ में कुणाल झावर उनके दोस्त और शायर, कवि एकत्र हुए। इस मौके पर उन्होंने म्यूजिक के साथ अपनी शायरी कविताएं सबके सामने रखीं।

Loading Comments