इंजीनियरिंग की परीक्षा का हुआ समाधान , बीच -बीच में छुट्टियां रहेगी जारी

समर समिट के लिए इंजीनियरिंग टेस्ट में वैकेंसी कम करने का फैसला वापस ले लिया गया है और परीक्षाएं पुराने शेड्यूल की तरह ही होंगी

SHARE

इंजीनियरिंग की परिक्षा में पहले दो पेपर के बीच में सिर्फ एक दिन की छु्टी की घोषणा के बाद हुए विवाद को देखते हुए शिक्षा विभाग ने एक और आदेश जारी किया है। इस आदेश के बाद एक बार फिर से इंजीनियरिंग की परीक्षा के पेपर में तीन से चार दिन की छुट्टियां भी मिल सकती है। इससे छात्र दूसरे पेपर का अध्ययन कर सकते हैं। हालांकि, समर समिट के लिए इंजीनियरिंग टेस्ट में वैकेंसी कम करने का फैसला वापस ले लिया गया है और परीक्षाएं पुराने शेड्यूल की तरह ही होंगी, यह सर्कुलर मुंबई यूनिवर्सिटी ने घोषित किया है।

क्या है पूरा मामला
अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद द्वारा हर इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों के लिए इंटर्नशिप करने के नियम तैयार किए गए हैं। नियमों के अनुसार, बुधवार को मुंबई विश्वविद्यालय के तहत इंजीनियरिंग प्रोफेसरों की एक बैठक आयोजित की गई थी।इस बैठक में कॉलेज इंटर्नशिप की तैयारी कैसे कर रहे है, इसकी समीक्षा की गई। लेकिन कुछ अध्यापको का कहना था की उन्हे इंटर्नशिप देने के लिए समय ही नहीं मिलता है। इस शिकायत के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा फैसला किया गया की परिक्षा के बीच में मिलनेवाले छुट्टियों को कम किया जाए और इन्ही छुट्टियों को इंटर्नशिप के लिए दिया जाए। विश्वविद्यालय प्रशासन के इस फैसले का छात्रों ने जमकर विरोध किया।


अगले शैक्षणिक वर्ष से लागू होगा नियम

मुंबई विश्वविद्यालय के प्रस्ताव के विरोध को देखते हुए, विश्वविद्यालय ने इस वर्ष की परीक्षा में इस नये प्रस्ताव को ना लागू करने का फैसला किया है। हालांकि, विश्वविद्यालय अगले शैक्षणिक वर्ष 2019-2020 से इस प्रस्ताव को लागू करने पर विचार कर रहा है।

यह भी पढ़े- FYJC के प्रवेश के लिए आरक्षण 103 प्रतिशत

संबंधित विषय