रिटारमेंट के बाद भी मिल रही 'पगार' I


SHARE

मुंबई विश्वविद्याल पर एक गंभीर आरोप लगते नज़र आ रहे हैं I  आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली के मुताबिक विश्विद्याल प्रशासन ने 12 लोगों  को उनके रिटायरमेंट के बाद भी विश्विद्यालय में रखा हुआ हैं और उन्हे बकायदा हर महिनें की पगार दि जा रही हैं I अनील गलगली द्वारा डाली गई एक आरटीआई के जबाव में ये बात सामने आई I इन 12 लोगों पर विश्वविद्याल प्रशासन हर महिनें 2.80 लाख रुपये खर्च कर रहा हैं I अनिल गलगली ने इसकी शिकायत राज्यपाल  से की हैं I 

संबंधित विषय