एमफिल और पीएचडी प्रवेश परीक्षा होगी ऑनलाइन


SHARE

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के नए नियमों के अनुसार, विश्वविद्यालय ने एमफिल और पीएचडी के संबंध में संशोधित नियमों की घोषणा की है। मुंबई विश्वविद्यालय के कुलगुरू सुहास पेडनेकर ने एमफिल और पीएचडी के संबंध में नियुक्त समिति द्वारा बनाए गए 'कुलगुरू के निर्देश' को मंजूरी दी। ये नियम 15 जून, 2018 से लागू किए गए हैं।

ऑनलाइन परीक्षा
एमफिल और पीएचडी के लिए प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन ली जाएगी इसके साथ ही आवेदन और शुल्क भी ऑनलाइन स्वीकार किए जाएंगे। इसी तरह, परीक्षा साल में एक बार की जाएगी और परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्र विश्वविद्यालय द्वारा पारित प्रमाणपत्र प्राप्त करेंगे, और प्रमाण पत्र तीन साल के लिए मान्य होगा।

यह ऑनलाइन परीक्षा 100 प्रश्नों की होगी और इसके साथ ही हर एक प्रश्न पर 1 अंक होंगे। इस परीक्षा में दो पेपर होंगे, पहला पेपर शोध पद्धति पर आधारीत होगा तो वही दूसरा पेपर स्नातकोत्तर डिग्री के विषय पर आधारित होंगे। इन परीक्षा में पास होनेवाले छात्रों का साक्षात्कार संबंधित शोध केंद्र में लिया जाएगा , इसी तरह, छात्रों को उपलब्ध स्थान के आधार पर शोध के लिए चुना जाएगा

यह भी पढ़े- राज्य शिक्षा विभाग का आदेश,बच्चों की उपस्थिती के बारे में परिजनों को भेजें एसएमएस

संसोधन के लिए कितना समय
इस बीच, एमफिल शोध की अवधि कम से कम 2 सत्र या 1 वर्ष, और अधिकतम 4 सत्र या 2 साल के लिए होगी। यह अवधि पीएचडी के लिए न्यूनतम 3 साल और अधिकतम छह साल के लिए होगी, हालांकी अवधि 10 साल से अधिक न हो।

अनुसंधान सलाहकार समिति
प्रत्येक शोध केंद्र में एक शोध सलाहकार समिति की स्थापना की गई है, और यह समिति अनुसंधान से संबंधित सभी प्रक्रियाओं को देखेगी। यूजीसी नियमों के अनुसार, कोर्स कार्य पूरा करने के बाद, हर 6 महीने, इसकी प्रगति रिपोर्ट शोध सलाहकार समिति के सामने पेश करने के साथ साथ अनुसंधान केंद्र में जमा की जाएगी।शोध करनेवाले छात्रों को (open defense viva) परीक्षा देनी होगी। संशोधन केंद्र पर संशोधन सल्लागार समिती के सदस्य, शिक्षक वर्ग, संशोधक विद्यार्थी और अन्य छात्रों के सामने मौखिक (open defense viva) देनी होगी जिसके बाद छात्रों का मुल्यांकन किया जाएगा।

यह भी पढ़े- बायोमेट्रिक तरीके से होगा छात्रों को अटेंडेंस

इन्फ्लेंट प्रबंधन (INFLIBNET)

जिन छात्रों के पीएचडी और एमफिल घोषित किए जाते हैं, उन्हें इन्फिनिबैंड (INFLIBNET) द्वारा अपलोड और प्रबंधित किया जाएगा। सूचना वेबसाइट पर शोधकर्ता छात्रों के शोध का नाम, अनुसंधान का विषय, गाइड का नाम, और अनुसंधान के पंजीकरण की तारीख हर एक एकेडमिक वर्ष विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर दी जाएगी।


मुंबई विश्वविद्यालय के कुलगुरू डॉ सुहास पेडनेकर का कहना है की यूजीसी की नीति हर विश्वविद्यालय में अच्छी व्यवस्था करना है, यही कारण है कि यूजीसी समय-समय पर अनुसंधान के नियम में सुधार करता है। इसके आधार पर, विश्वविद्यालय इन संशोधित नियमों को बनाएगा। इससे विश्वविद्यालय में और अनुसंधान में मदद मिलेगी और मुझे उम्मीद है कि मुंबई विश्वविद्यालय अनुसंधान में अग्रणी होगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें