"एम आणि हुमराव" को मिला बालशास्त्री जांभेकर पुरस्कार ।

 Dadar
"एम आणि हुमराव" को मिला बालशास्त्री जांभेकर पुरस्कार ।
"एम आणि हुमराव" को मिला बालशास्त्री जांभेकर पुरस्कार ।
See all

दादर- इस साल उत्तम अनुवादन के लिए "एम आणि हुमराव’ को बालशास्त्री जांभेकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है । इस पुस्तक का अनुवादन शांता गोखले ने किया है । रेजी पिंटो ने 'एम आणि हुमराव’ को लिखा था जिसे बाद में शांता गोखले जी ने मराठी में अनुवादित किया । अधय्क्ष हरिश्चंद्र थोरात के नेतृत्व में बनी समिति ने 2014 और 2015 मराठी अनुवादित हुए पुस्तकों में से एम आणि हुमराव का चुानव किया ।​

Loading Comments