इंटरव्यू - राइटर्स से हिंदी मीडियम के लिए रिक्वेस्ट !

 Mumbai
इंटरव्यू - राइटर्स से हिंदी मीडियम के लिए रिक्वेस्ट !

दीपक डोबरियाल एक ऐसा नाम है जिसने बॉलीवुड फिल्मों में अपनी एक अलग जगह और पहचान बनाई है। दीपक को ओमकारा फिल्म के लिए फिल्म फेयर अवॉर्ड भी दिया गया। हाल ही में आपने दीपक को तनु वेड्स मनु रिटर्न्स में एक ऐसे अवतार में देखा, जहां पर आप अपनी हंसी को रोक ही नहीं पाए होंगे। अब दीपक डोबरियाल हिंदी मीडियम फिल्म में इरफान खान के साथ नजर आने वाले हैं। यह फिल्म 19 मई को रिलीज होगी। दीपक इरफान खान के साथ 14 सालों के बाद बड़े पर्दे पर दिखेंगे। 2003 में रिलीज हुई मकबूल फिल्म में इन दोनों कलाकारों ने अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया था, अब देखना होगा कि भाषा पर बन रही इस फिल्म में यह जोड़ी कितना कमाल दिखा पाती है। हमने दीपक डोबरियाल से खास मुलाकात की। इस मुलाकत में हमने उनसे फिल्म के अलावा कुछ दूसरे सवाल भी पूछे, जिनका उन्होंने बेबाकी से जवाब दिया।

14 साल बाद फिर वही जोड़ी

जैसा कि आपको पहले ही बताया कि दीपक डोबरियाल और इरफान खान ने फिल्म मकबूल में एक साथ काम किया था, यह फिल्म 2003 में रिलीज हुई थी। अब एकबार फार फिर यह जोड़ी हिंदी मीडियम में दिखेगी। इसपर दीपक का कहना है, मकबूल में मैं इरफान भाई का राइट हैंड था। हिंदी मीडियम में हमारे एक साथ काफी सीन्स हैं। इरफान जी बहुत अच्छे इन्सान हैं, उनके साथ काम करके काफी मजा आया।


जिंदादिल

दीपक ने कहा, हिंदी मीडियम में मेरा किरदार जिंदादिल है, पर हालात गंभीर हैं। इसमें सिर्फ कॉमेडी नहीं है, पर दर्शकों को यह फिल्म और मेरा किरदार जरूर पसंद आएगा।

आजा बेटा सेल्फी लेले रे

सेल्फी वाले सवाल पर दीपक का कहना है, मुझे सेल्फी लेने वालों से कोई दिक्कत नहीं है, मैं बॉडीगार्ड भी नहीं रखता हूं। दिल्ली, पंजाब में लोग मुझसे लिपट जाते हैं और सेल्फी लेते हैं। उनके प्यार की मैं बहुत कद्र करता हूं।


राइटर्स से रिक्वेस्ट

पूछे गए सवाल कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में कितनी हिंदी बोली जाती है, इस पर दीपक ने कहा, 90 फीसदी लोग हिंदी में ही बात करते हैं, पर डायरेक्टर और प्रोड्यूशर को मजबूरी में अंग्रेजी में बात करनी पड़ती है। टेक्निकल डिपार्टमेंट भी अंग्रेजी में बात करता है। हालांकि उन्हें हिंदी का भी ज्ञान होता है। पर मेरी राइटर्स से रिक्वेस्ट है कि वे हिन्दी में बोलें।

भाषा फीलिंग पर भारी

अंग्रेजी भाषा पर दीपक ने कहा, कई बार लोगों के साथ ऐसा होता है कि वे किसी से बात करना चाहते हैं पर अंग्रेजी ना आने की वजह से खुद को रोक लेते हैं। इस तरह से भाषा ने फीलिंग को दूर कर रखा है। हालांकि मुझे इससे ज्यादा कुछ दिक्कत नहीं है, क्योंकि मैं हिन्दी में सोचता हूं और हिंदी फिल्में करता हूं। थोड़ी बहुत तो मुझे भी अंग्रेजी की समझ है पर जब मसला गंभीर होता है तो मैं ट्रांसलेटर बुला लेता हूं।


विनोद खन्ना प्यारे इंसान

इंडस्ट्री के हैंडसम कलाकारों में से एक विनोद खन्ना की हाल ही में मृत्यू हो गई है, इस पर दीपक ने मेमरी शेयर करते हुए कहा, विनोद खन्ना जिंदादिल और काफी अच्छे इंसान थे। दबंग 2 में मेरा एक सीन था वह शूट होने के बाद सलमान भाई ने विनोद जी से मुलाकात कराई थी, उसके बाद विनोद जी ने मेरे कंधे पर हाथ रखा और खाना खाने के लिए पूछा।

हॉर्न और लाउडस्पीकर सिर्फ म्यूजिक

लाउडस्पीकर वाले मुद्दे पर दीपक ने कहा, मुझे तो लाउडस्पीकर और हॉर्न में म्यूजिक ही सुनाई देता है। आप भी सोचोगे तो आपको भी मंदिर और अजान से म्यूजिक ही सुनाई देगा।


जब थियेटर तो सिर्फ थियेटर

मैंने अपने करियर की शुरुआत हिन्दी थियेटर से की थी, और सात साल तक थियेटर किया। पर अब सिर्फ फिल्में ही करनी है, क्योंकि थियेटर में पैसा नहीं है और फिल्मों में अच्छा खासा पैसा मिलता है।

आगामी प्रोजेक्ट्स

काला हांडी - अक्षत वर्मा की फिल्म, सैफ अली खान के साथ दीपक डोबरियाल

लाइफ हिन्दी, वाइफ इंग्लिश और बच्चों का क्या ? बताएंगे खुद इरफान

Loading Comments