साहिर-शैलेंद्र को श्रद्धांजलि

दादर- साहिर लुधियानवी और शैलेंद्र द्वारा 50 साल पहले लिखे गाने आज भी लोगों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। द्वारकानाथ संजगिरी द्वारा इन प्रसिद्ध गीतकारों को श्रद्धांजलि देने के लिए दादर के सावरकर सभागृह में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें द्वारकानाथ ने साहिर लुधियानवी और शैलेंद्र के गानों से जुड़ी कई बातें बताई। इस मौके पर द्वारकानाथ द्वारा लिखित पुस्तक तिरकिटधा का प्रकाशन प्रसिद्ध गीतकार अशोक पत्की के हाथों हुआ।

Loading Comments