'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता'

 Pali Hill
'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता'
'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता'
'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता'
See all

मुंबई - शाहरुख खान की आगामी फिल्म रईस ने रिलीज से पहले अपने लिए जबर्दस्त माहौल बनाया दिया है। सभी जगह फिल्म के गानों, ट्रेलर और डायलॉग की चर्चा है। लोगों के बीच रईस के डायलॉग काफी चर्चा में हैं।

इसी कड़ी में मोची श्याम बहादुर, जो मुंबई के उपनगरीय इलाके में अपनी छोटी सी दुकान चलाते हैं। उन्हें रईस का डायलॉग इतना अपना और सटीक लगा कि इन्होंने अपनी दुकान के बाहर बोर्ड पर लिख उसे टांग दिया। यह डायलॉग है 'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता' जब शाहरुख खान को इस बात कि भनक लगी तो उन्होंने इस श्याम बहादुर से मिलने की तुरंत इच्छा जताई। उपनगरीय इलाके के एक स्टूडियो में एसआरके मीडियाकर्मियों से मुखातिब हो रहे थे, इसी दौरान उन्होंने श्याम को भी बुलाया।

शाहरुख खान ने श्याम बहादुर को गले से लगाया। श्याम ने शाहरुख को एक जोड़ी जूता गिफ्ट किए जो उन्होंने खुद अपने हाथों से बनाए थे। शाहरुख ने श्याम से वादा किया कि वो इस जूते को मैंचिंग करती हुई पठानी के साथ जरूर पहनेंगे।

Loading Comments