गौरैया को बचाने के लिए विशेष पहल

मुंबई - आज पूरी दुनिया में विश्व गौरैया दिवस मनाया गया। इस मौके पर अभिजित चव्हाण प्रतिष्ठान की तरफ से मुलुंड में चिड़ियों की प्रजातियों के बचाने के लिए कृत्रिम घोंसले लगाए गए। संस्था के अध्यक्ष अभिजित चव्हाण ने बताया कि यहां पर कुछ 100 खोसले चिड़ियों के लिए लगाए गए हैं।

 चिड़िया एक ऐसी पक्षी है जो कि इंसानों के घरों के नजदीक रहना पसंद करती है। परंतु आज चिड़ियों सहित अन्य पक्षी लुप्त हो चुके हैं। इसको विकसित रखने के लिए 20 मार्च को विश्व चिड़िया दिवस के तौर पर मनाया जाता है। गौरैया आजकल अपने अस्तित्व के लिए मनुष्यों और अपने आसपास के वातावरण से काफ़ी जद्दोजहद कर रही है। ऐसे समय में हमें इन पक्षियों के लिए वातावरण को इनके प्रति अनुकूल बनाने में सहायता प्रदान करनी चाहिए। तभी ये हमारे बीच चह चहायेंगे। मनुष्यों को गौरैया के लिए कुछ ना कुछ तो करना ही होगा, वरना यह भी गिद्ध की तरह पूरी तरह से विलुप्त हो जायेंगे। इसलिए सभी को मिलकर गौरैया का संरक्षण करना होगा।

Loading Comments