21 घंटे बाद लालबाग के राजा का विसर्जन

लालबाग के राजा को आखिरी विदाई देने के लिए गिरगांव चौपाटी पर लाखों लोग जमा हुए।

SHARE

21 घंटे के बाद सोमवार की सुबह 9 बजे लालबाग के राजा का गिरगांव चौपाटी में विसर्जित किया गया। बाप्पा को आखिरी विदाई देने के लिए गिरगांव चौपाटी पर लाखों लोग जमा हुए, तो वही दूसरी ओर हर साल की तरह इस साल पर गिरगांव चौपाटी पर कोली समुदाय के लोगों ने नावों का एक बड़ा जत्था लेकर बाप्पा को विदा किया। लालबाग के विसर्जन के साथ ही गणेशोत्सव त्योहार का समापन मुंबई में माना जाता है।

8 किलोमीटर की दूरी के लिए 21 घंटे

लालबाग के राजा को रविवार की सुबह 10.30 पंडाल से विसर्जन के लिए बाहर निकाला गया था, गिरगांव चौपाटी में विसर्जन के लिए लालबाग के राजा को 21 घंटो से भी ज्यादा का समय लगा। आपको बता दे की लालबाग के राजा के पंडाल से गिरगांव चौपाटी की दूरी महज 8 से 9 किलोमीटर है , लेकिन इतनी दूरी तय करने के लिए बाप्पा को 21 घंटे से भी अधिक का समय लग गया। दरअसल लालबाग के राजा की आखिरी झलक पाने के लिए लाखों भक्त रास्तों पर आ जाते है , जिसके कारण विसर्जन में इतना समय लगता है।


संबंधित विषय
ताजा ख़बरें