Ganpati Utsav: मुंबई की यह अनोखी गणपति मूर्ति शामिल होगी रेकॉर्ड बुक में

झाड ने इस मूर्ति को बनाने की शुरुआत इसी साल मार्च महीने से की थी, अब यह मूर्ति अपने अंतिम चरण में है। 4 सितंबर के दिन इस मूर्ति को वर्ल्ड रेकॉर्ड ऑफ इंडिया बुक में शामिल किया जायेगा।

SHARE

गणेशोत्सव में पहले लोग 'प्लास्टर ऑफ़ पेरिस' से मूर्तियों को बनाते थे, लेकिन पर्यावरण से होने वाले नुकसान के बाद 'प्लास्टर ऑफ़ पेरिस' को बंद करने की मुहीम चल रही है। और इसकी जगह इको फ्रेंडली मूर्तियों को बनाने पर जोर दिया जा रहा है। ऐसे कई लोग हैं जो पर्यावरण की रक्षा के लिए भिन्न भिन्न वस्तुएं से बप्पा की मूर्तियां बनाते हैं,  इन्ही में से एक हैं तेजूकाया सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल। इस मंडल ने कागज की 22 फुट उंची गणेश मूर्ति बनाया है जो लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। यही नहीं इस मूर्ति को रेकॉर्ड बुक में भी शामिल किये जाने की बात की जा रही है।

पूरी तरह से इको फ्रेंडली गणपति 
तेजूकाया सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल की इस मूर्ति को राजन झाड नामके कारीगर ने बनाया है। साथ ही मंडल का यह भी दावा है कि डेढ़ टन वजनी यह देश की पहली 22 फूट उंची गणेश मूर्ति है जो पूरी तरह से कागज की बनी है और इको फ्रेंडली है। इस मूर्ति को बनाने में कागज के अलावा जिन वस्तुओं का प्रयोग किया गया है वे भी इको फ्रेंडली हैं।

वर्ल्ड रेकॉर्ड ऑफ इंडिया बुक में होगी शामिल 
झाड ने इस मूर्ति को बनाने की शुरुआत इसी साल मार्च महीने से की थी, अब यह मूर्ति अपने अंतिम चरण में है। 4 सितंबर के दिन इस मूर्ति को रेकॉर्ड बुक में शामिल किया जायेगा।


संबंधित विषय
ताजा ख़बरें