Advertisement

मलेरिया मरीजों की संख्या में आई कमी


मलेरिया मरीजों की संख्या में आई कमी
SHARES

जहां एक ओर मुंबई (mumbai) में कोरोना (Coronavirus) रोगियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, तो वहीं दूसरी ओर मलेरिया (malaria) भी बढ़ रहा था। मलेरिया के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए BMC की भी मुश्किलें बढ़ने लगी थी। इसे देखते हुए BMC कर्मियों ने मलेरिया उन्मूलन अभियान चलाया। अपनी जान जोखिम में डालते हुए कर्मियों ने मुंबई के कई स्थानों को चिन्हित किया जहां डेंगू (dengue) के पाए जाने की संभावना थी। BMC ने ऐसे हजारों जगहों को चिन्हित कर वहां साफ सफाई की। जिसके बाद से मलेरिया काफी हद तक नियंत्रण में आया।

मुंबई में बारिश (monsoon) के दौरान होने वाली बीमारियां मलेरिया, डेंगू, पीलिया और स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों को नियंत्रित करने में BMC का स्वास्थ्य विभाग सफल रहा है। पिछले साल अक्टूबर में मलेरिया के 536 मामले सामने आए थे।  जबकि इस साल 11 अक्टूबर तक मात्र 160 मरीज पाए गए। पिछले साल की तुलना में इस साल विभिन्न बीमारियों से पीड़ित रोगियों की संख्या में कमी आई है।

मानसून के मौसम में मलेरिया, डेंगू, लेप्टोस्पायरोसिस, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, मलेरिया और पीलिया जैसे विभिन्न संक्रामक रोग फैलते हैं। और इस बार तो कोरोना (Covid-19) संकट के कारण संक्रामक बीमारियों को रोकना स्वास्थ्य विभाग के लिए एक बड़ी चुनौती है। हालांकि, कोरोना के बाद, स्वास्थ्य विभाग मानसून में होने वाली बीमारियों को नियंत्रित करने में सफल रहा है।

मुंबई में इन महामारियों को रोकने के लिए कीटनाशक छिड़काव, मच्छर भगाने का छिड़काव, डोर-टू-डोर निरीक्षण, स्वच्छता गतिविधियों, नागरिकों के बीच जागरूकता फैलाना, इन बड़ी बीमारीयों को रोकने के लिए कारगर उपाय साबित हुए हैं।

अक्टूबर महीने में मरीजो की संख्या

बीमारी    2019    2020

मलेरिया    536    160

लेप्टो        30    15

डेंग्यू        42    01

गॅस्ट्रो       386   31

हिपेटायटिस    70    03

स्वाइन फ्लू    04    00

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें