अब तक 8 वन रूपी क्लिनिक हो चुके हैं बंद

आपको बता दें कि रेलवे ने नाइट शिफ्ट में एमबीबीएस डॉक्टर नहीं होने का हवाला देकर वन रूपी क्लिनिक को बंद करने को कहा है। गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश पर यह वन रूपी क्लिनिक खोले गए थे ताकि घायलों को आपातकाल में उचित उपचार मुहैया हो सके।

SHARE

मध्य रेलवे और हार्बर रेलवे में मिला कर अब तक कुल 8 वन रूपी क्लिनिक बंद हो चुके हैं। यही नहीं बाकि अन्य क्लीनिकों पर भी बंद होने का खतरा मंडरा रहा है। आपको बता दें कि रेलवे ने नाइट शिफ्ट में एमबीबीएस डॉक्टर नहीं होने का हवाला देकर वन रूपी क्लिनिक को बंद करने को कहा है। गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश पर यह वन रूपी क्लिनिक खोले गए थे ताकि घायलों को आपातकाल में उचित उपचार मुहैया हो सके।


 
'24 घंटे MBBS डॉक्टर संभव नहीं'
रेलवे के मुताबिक नियमानुसार क्लिनिक में 24 घंटे MBBS डॉक्टर उपलब्ध नहीं होने के कारण वन रूपी क्लिनिक को बंद करने का का निर्णय लिया गया है। 'मैजिक दिल' द्वारा संचालित वन रूपी क्लिनिक के 6 क्लिनिक और एम्स हॉस्पिटल के 2 वन रूपी क्लिनिक को नोटिस भेज कर बंद करने को कहा है। शुक्रवार से अब तक कुल 8 क्लिनिक बंद हो चुके हैं, तो वहीं क्लिनिक के मुख्य संचालक राहुल घुले का कहना है कि MBBS डॉक्टर 24 घंटे उपलब्ध कराना संभव नहीं है क्योंकि लगभग सभी MBBS डॉक्टर दिन में प्रैक्टिस करते हैं तो रात में यहां ड्यूटी कौन करेगा? फिर भी हम प्रयास कर रहे हैं।
 
 

यह भी पढ़ें: OMG: तो क्या राजनीतिक दबाव में बंद हो जाएंगे वन रूपी क्लिनिक?



बंद करना कितना जायज?
क्लिनिक के मुख्य संचालक राहुल घुले  सवाल उठाया कि एक तरफ रेलवे स्टेशनों पर दुर्घटनाग्रस्त लोगों को समय पर उपचार नहीं मिलने के कारण जाने जाती हैं तो दूसरी तरफ वन रूपी क्लिनिक को बंद करना कितना सही है? राहुल घुले और एम्स के डॉ. चौघुले ने इन क्लिनिक को फिर से शुरू करने के लिए रेलवे से पत्र व्यवहार शुरू किया है। डॉ. घुले ने दावा किया है कि वन रूपी क्लिनिक के माध्यम से अब तक 50 हजार से अधिक मरीजों का उपचार किया गया है. घुले के मुताबिक़ अच्छी सेवा देने के बाद भी आखिर 8 क्लिनिक को बंद किया गया है, इसका असर मरीजों पर भी पड़ेगा।


यह भी पढ़ें: राजनीति का शिकार हुई वन रूपी क्लिनिक, इन दो स्टेशनों के क्लिनिक हुए बंद


 कहां बंद हुए क्लिनिक?
डोंबिवली और कल्याण के रेलवे स्टेशनों पर एम्स द्वारा संचालित तो भायखला, दादर, वडाला, माटुंगा, कुर्ला, टिटावालाला , मुंब्रा, गोवंडी, घाटकोपर, वाशी, मुलुंड और  ठाणे स्टेशनों पर  'मैजिक दिल' द्वारा संचालित वन रूपी क्लिनिक थे। इस तरह से कुल 12 स्टेशनों पर क्लिनिक चल रहे थे. जिनमे से डोंबिवली, कल्याण, कुर्ला, घाटकोपर, वडाला, गोवंडी, वाशी और मुलुंड के 8 क्लिनिक बंद हो गए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें