Advertisement

निजी अस्पतालों में सरकारी अस्पतालों की तुलना में दोगुने ऑक्सीजन का उपयोग


निजी अस्पतालों में सरकारी अस्पतालों की तुलना में दोगुने ऑक्सीजन का उपयोग
SHARES

कोरोना (Corona virus) के समय निजी (Private hospital) और सरकारी अस्पतालों (Goverment hospital) में मरीजों को ऑक्सीजन (Oxygen) की आपूर्ति की जा रही है।  हालांकि, राज्य के निजी अस्पताल सरकारी अस्पतालों की तुलना में दोगुने ऑक्सीजन का उपयोग कर रहे हैं।  इसलिए, स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इस संबंध में एक स्वतंत्र जांच की आवश्यकता है।  वर्तमान में, उपचार के दौर से गुजर रहे रोगियों के बीच कोरोना रोगियों के लिए प्रति दिन 600 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की खपत हो रही है।

निजी अस्पतालों में ज्यादा इस्तेमाल

निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन का उपयोग शुल्क लिया जाता है, जबकि सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली ऑक्सीजन के लिए शुल्क नहीं लेती हैं।  इसलिए, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव, डॉ. प्रदीप व्यास ने प्रति दिन सभी अस्पतालों को कितना ऑक्सीजन सिलेंडर दिया जाता है इसपर ध्यान रखने की आवश्यकता जताई है। 


खाद्य और औषधि प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि वह राज्य में 65 ऑक्सीजन केंद्रों द्वारा आपूर्ति की जाने वाली ऑक्सीजन की मात्रा और सभी मानदंडों को पूरा करने के लिए निगरानी रखे। जब स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में चिकित्सा ऑक्सीजन का सर्वेक्षण किया, तो यह पाया गया कि निजी अस्पतालों में दोगुने से अधिक ऑक्सीजन का इस्तेमाल सरकारी अस्पतालों में किया गया।

यह भी पढ़ेलगातार झुकता हुआ लोकतंत्र का चौथा स्तंम्भ

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय