प्रदेश भर के इंटर्न डॉक्टरों ने शुरू किया 'कामबंद आंदोलन'


SHARE

मुंबई और ठाणे के सभी सरकारी अस्पतालों के लगभग 600 से भी अधिक प्रशिक्षणार्थी डाॅक्टर्स ने वेतन को लेकर 'कामबंद आंदोलन' शुरू कर दिया है। बताया जाता है कि मेडिकल इंटर्नशिप कर रहे प्रशिक्षणार्थी डाॅक्टर्स ने अपने वेतन को बढ़ाने के लिए प्रशासन को भी पत्र लिखा था लेकिन उस पत्र का कोई भी जवाब नहीं आने के कारण इन डॉक्टरों ने आख़िरकार 'कामबंद आंदोलन' शुरू करने का निर्णय लिया।


क्या है मामला?
महाराष्ट्र में मेडिकल शिक्षा की पढाई करने वाले मेडिकल के छात्रों को एक साल के लिए इंटर्नशिप करना जरुरी होता है। साथ ही अन्य राज्यों की तुलना में यहां के इंटर्न डॉक्टरों का वेतन भी कम होता है। इन इंटर्न डॉक्टरों की मांग थी कि इनकी सैलरी कम से कम 20 हजार हो। अपनी इसी मांग को लेकर इन्होने स्वास्थ्य मंत्री को एक लेटर भी दिया था, लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया। इसीलिए राज्य भर के लगभग 2700 इंटर्न डॉक्टरों ने कामबंद आंदोलन शुरू कर दिया। 


12 जून को इंटर्न डॉक्टरों के संगठन और प्रशासन के बीच बैठक हुई थी। लेकिन इस बैठक के कोई नतीजा नहीं निकल पाने के कारण डॉक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दिया। जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं हो जाती तब तक हम हड़ताल जारी रखेंगे, और हमारी यह,मांग हमे लिखित में चाहिए।
- डॉ. गोकुल राख, सेक्रेटरी, इंटर्न डॉक्टर्स संगठन

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें