इंटर्न डॉक्टर की हड़ताल का दूसरा दिन।

इंटर्न डॉक्टरों की मांग है की अन्य राज्यों की तुलना में, महाराष्ट्र के इंटर्न डॉक्टरों को कम मजदूरी दी जा रही है, जिसे जल्द से जल्द बढ़ाया जाए।

SHARE

महाराष्ट्र के सभी इंटर्न डॉक्टर्स ने बुधवार से काम बंद आंदोलन किया है। मुंबई के साथ साथ कई अन्य जिलों में भी इंटर्न डॉक्टर्स ने बुधवार से काम बंद आंदोलन शुरु किया है , दरअसल इंटर्न डॉक्टरों की मांग है की अन्य राज्यों की तुलना में, महाराष्ट्र के इंटर्न डॉक्टरों को कम मजदूरी दी जा रही है, जिसे जल्द से जल्द बढ़ाया जाए।

काम बंद का क्या है कारण
महाराष्ट्र में मेडिकल और चिकित्या कॉलेजो की संख्या अधिक है इसलिए महाराष्ट्र में छात्र में ज्यादा से ज्यादा संख्या में प्रवेश लेते है। चिकित्सा शिक्षा में, छात्रों को कम से कम एक सेमेस्टर इंटर्नशीप करना होता है, इस इंटर्नशीप में हाराष्ट्र को छोड़कर सभी राज्यों को 11 हजार रुपये से अधिक का भुगतान किया जाता है। छात्रों की मांग है की अन्य राज्यों की तरह भी महाराष्ट्र में ज्यादा भुगतान किया जाए।

पहली बैठक बेनतीजा
12 जून को, इंटर्न डॉक्टर के संगठन और प्रशासन के बीच एक बैठक आयोजित की गई, हालांकी ये बैठक भी बेनतीजा ही रही। इंटर्न डॉक्टर संघठना के सेक्रेटरी डॉ. गोकुल राख का कहना है की जबतक उनकी मांगे पूरी नहीं होती और उन्हे लिखित रुप से आश्वासन नहीं दिया जाता है , तब तक उनका ये काम बंद आंदोलन चलता रहेगा।

यह भी पढ़े- मुंबई पुलिस की अनोखी कोशिश, अब 'चाय पी लो' की जगह आंटी बोल रही 'हेलमेट पहन लो' !

कहां कितना है भुगतान
सरकार द्वारा 2015 में 6 हजार रुपये से बढ़ाकर हमारा मानदेय 11 हजार रुपये करने का प्रावधान किया गया था, लेकिन इसे अभी तक लागू नहीं किया गया। उत्तर प्रदेश में इंटर्न डॉक्टरों को 17,900, छत्तीसगढ़ में 20,000, दिल्ली में 21,000, पश्चिम बंगाल में 21,000, केरल में 20,000, आंध्र प्रदेश में 13,000, जबकि उत्तराखंड में 7,500 रुपये मानदेय के रूप में दिया जाता है। महाराष्ट्र में केवल 6 हजार रुपये मिलते हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें