मुंबई में कोहरा: गर्भवती महिलाएं बरतें विशेष सावधानी


  • मुंबई में कोहरा: गर्भवती महिलाएं बरतें विशेष सावधानी
  • मुंबई में कोहरा: गर्भवती महिलाएं बरतें विशेष सावधानी
SHARE

पिछले 3 दिन मुंबई में ठंड के साथ साथ कोहरा भी देखने को मिल रहा है, हालांकि यह कोहरा अधिक मात्रा में नहीं है लेकिन बताय जा रहा है कि यह कोहरा जितना है उतनी ही वह गर्भवती महिलाओं के लिया हानिकारक है। मुंबई सेंट्रल के वोक्हार्ट हॉस्पिटल के अनुसार इस कोहरे में गाड़ियों से निकलने वाला धुंआ हवा में मिलकर जहरीले तत्व का निर्माण करता है जिसका नाम  'क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव्ह पल्मनरी डिसीज' है। इस तत्व से गर्भवती महिलाओं के श्वासनली में विकार पैदा होने की सम्भवना बढ़ जाती है। इसका प्रभाव होने वाले बच्चे पर भी पड़ता है।


यह भी पढ़ें : ठंडियों में बुजुर्गों का ऐसे रखें ध्यान !




गर्भवती माताओं की रोगप्रतिकारक क्षमता कम होने के कारण ठंडी में अकसर उन्हें सर्दी, जुखाम, खांसी और बुखार की समस्या से जूझना पड़ता है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से गर्भवती महिलाओं को सांस लेने में तकलीफ होने के केस अधिक सामने आ रहे हैं, इसका कारण कोहरा हो सकता है। इस कोहरे के कारण महिलाओं में दमा की शिकायत, सीने में जलन और निमोनिया भी हो सकता है।

डॉ. गंधाली देवरुखकर,सीनियर स्त्रीरोग विशेषज्ञ ,वोक्हार्ट हॉस्पिटल

डॉक्टरों के अनुसार अगर बाहर का वातावरण ठीक नहीं है तो ऐसी दशा में गर्भवती महिलाओं को बाहर नहीं निकलना चाहिए या फिर कम से काम निकलने का प्रयास करना चाहिए।


यह भी पढ़ें : सुजोक चिकित्सा पद्धति से कैसे मिलती है बीमारी से राहत.. देखें


सावधानी बरतें

कोहरे में घर से बाहर निकलते समय मुंह, नाक और कान पर कपड़ा बांधें।

बहुत सुबह सैर के लिए न जाएं।

कोहरे में मरीज, बच्चे और बुजुर्ग घर में ही रहें।

इस मौसम में दमा के रोगियों की परेशानी बढ़ जाती है। ऐसे मरीजों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

हृदय के रोगी सुबह-सुबह जॉगिंग पर जाने से बचें।

शाम को ही धूप में निकले।

सफाई का ध्यान रखना चाहिए।

हृदय रोगी हल्का भोजन करें, तेलयुक्त खाना खाने से बचें।

अस्थमा और दमे के रोगी ज्यादा तकलीफ होने पर तत्काल डॉक्टर की सलाह लें।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें