Advertisement

मुंबई में कोरोना का नया स्ट्रेन नहीं, BMC ने की पुष्टि

बढ़ते कोरोना के मद्देनजर, मुंबई नगर निगम ने अपील की है कि, सरकारी कार्यालयों की तरह निजी कार्यालयों में भी 50 प्रतिशत कर्मचारियों के आने के नियम का पालन किया जाना चाहिए।

मुंबई में कोरोना का नया स्ट्रेन नहीं, BMC ने की पुष्टि
SHARES

मुंबई (mumbai) में बढ़ रहे कोरोना (Corona) मरीजों को लेकर संभावना जताई जा रही थी कि, कोरोना वायरस का नया स्वरूप 'स्ट्रेन' (strain) भी हो सकता है। लेकिन BMC के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने इन संभावनाओं को पूरी तरह से इनकार किया है। इस बाबत उन्होंने कहा, इससे पहले मुंबई में कोरोना यूके स्ट्रेन के 5 मरीज पाए गए थे। लेकिन उचित उपचार के बाद, वे सभी ठीक हो गए। तब से मुंबई में कोई नया स्ट्रेन सामने नहीं आया है।

काकानी ने आगे कहा कि, कोरोना के 90 मरीजों के नमूने जांच के लिए पुणे भेजे गए हैं। मुंबई में कोरोना रोगियों की संख्या में मामूली वृद्धि के बावजूद, नगर पालिका की तरफ से कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सभी तंत्रों को सतर्क किया गया है। वर्तमान में, शादी में भीड़ जुट रही है। इसके अलावा, होटलों में भी भीड़ बढ़ती हुई पाई जा रही है, इसलिए नगरपालिका (bmc) ने अब इन होटलों और शादी केे हॉलों में भीड़ को रोकने के लिए एक सख्त कदम उठा रहे हैं। इसके लिए हॉल में होने वाली बुकिंग के बारे में जानकारी ली जाएगी। इसके अलावा, यदि 50 फीसदी से अधिक भीड़ पाई जाती है, तो संबंधित लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

राज्य सरकार और BMC की तरफ से मुंबई में कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या पर ध्यान दिया जा रहा है। यही कारण है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) ने BMC अधिकारियों की उपस्थिति में एक समीक्षा बैठक की। इस बैठक में नगरपालिका प्रशासन ने संबंधितों को पूरे स्वास्थ्य तंत्र को सुसज्जित रखने के आदेश दिए हैं। काकानी ने कहा, कि कोविड सेंटर, वेंटिलेटर और अन्य प्रणालियों को तैयार रखने के निर्देश दिए गए हैं।

काकानी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने घनी आबादी वाले क्षेत्रों में बड़ी संख्या में कोरोना रोगियों की मिलने की संभावना को देखते हुए नगरपालिका सेे प्रत्येक 24 विभागों में 24 क्वारंटाइन केंद्र शुरू करने के निर्देश दिए हैं, ताकि रोगियों का समुचित इलाज किया जा सके।

बढ़ते कोरोना के मद्देनजर, मुंबई नगर निगम ने अपील की है कि, सरकारी कार्यालयों की तरह निजी कार्यालयों में भी 50 प्रतिशत कर्मचारियों के आने के नियम का पालन किया जाना चाहिए। कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या के कारण, निजी कार्यालयों में 50 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य है।

काकानी ने बताया कि, 50 फीसदी कर्मचारियों के उपस्थित होने के नियमों का पालन किया जा रहा है कि नहीं, इस बात का निरीक्षण करने के लिए बीएमसी टीम निजी कार्यालयों का दौरा करेगी।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें