किडनी फेल्यूर मरीजों के लिए विशेष डायलिसिस विभाग शुरु!

वोकहार्ट अस्पताल में डायलिसिस के लिए एक विशेष सेवा शुरु की गई है।

SHARE

गुर्दे की विफलता के कारण मूत्रपिंड में खराबी आ जाती है, जिसके कारण शरीर से अतिरिक्त पानी को बाहर निकाला जाता है। इस प्रक्रिया को डायलिसिस कहा जाता है। डायलिसिस के लिए अस्पताल में रोगियों को दो -दो दिन तक का इंतजार करना पड़ता है।  किडनी विफलता रोगियों के लिए मुंबई सेंट्रल के वोकहार्ट अस्पताल में डायलिसिस के लिए एक विशेष सेवा शुरु की गई है।

यह भी पढ़े- शिशु मृत्यु दर में वृद्धि: मुंबई में साल भर में जन्म के 24 घंटे के अंदर 483 बच्चों की मौत

मुंबई सेंट्रल इस अस्पताल के नये डायलिसिस सेवा की शुरुआत अस्पताल के संचालक श्रीमती झहाबिया खोराकीवाला और नेफ्रोलॉजी विभाग के संचालक व मूत्रपिंड प्रत्यारोपण फिजिशिअन डॉ. एम. एम. बहादूर के हाथों किया गया। इस विभाग में कुल 13 बेड्स होंगे। जिनमे से डायलिसिस सेवा के लिए 9 बेड्स और हेपॅटायटिस बी/सी के साथ साथ एचआईवी पॉजिटीव के लिए 3 बेड्स होंगे।

यह भी पढ़े- मुंबई में लेप्टो से एक मौत,अब तक चार लोगों की मौत!

इस केंद्र या यूएसपी नाम की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता केटीवी डायलिसिस है। इस इकाई का उपयोग हेमोडायलिसिस और पेरिटोनियल डायलिसिस उपचार विधियों की पर्याप्तता को मापने के लिए किया जाता है। केटी / वी डायलिसिस सेंटर इस अस्पताल में उन्नत तकनीक से लैस है और इस बेहद जटिल उपचार के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षित चिकित्सक उपलब्ध हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें